न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एसोचैम ने कहा ‘पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की जरूरत’

134

Hyderabad: पेट्रोल और डीजल की कीमत हर रोज बढ़ रहे हैं. ऐसोचैम के अनुसार पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार हैं. एसोचैम ने उम्मीद जताई है कि ईंधन पर करों के बोझ को घटाया जा सकता है.

एसोचैम महासचिव उदय कुमार वर्मा ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा से कहा कि हमारा मानना है कि पेट्रोल-डीजल को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाया जाना चाहिये. हालांकि, इस समय यह संभव नहीं है.”

इसे भी पढ़ें: विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट, 1.19 अरब डॉलर लुढ़ककर 400.10 अरब पर पहुंचा

hosp3

डॉलर की मजबूती से पट्रोल-डीजल की कीमत प्रभावित 

उन्होंने कहा कि इस समय ईंधन के दामों में लगातार वृद्धि की वजह वैश्विक कारक हैं. यह उभरते हुये बाजारों को प्रभावित कर रहा है और भारत भी इससे अछूता नहीं है.

उन्‍होने कहा कि अन्य प्रमुख विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में मजबूती से रुपये पर दबाव पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें: तेल की कीमतों में लगी आग, पेट्रोल 87 के पार-डीजल ने छुआ 76 का आंकड़ा

भारत कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातकों में से एक है. जिसके नाते रुपये की विनिमय दर में गिरावट का पेट्रोल-डीजल के दामों पर असर पड़ रहा है. इसके अलावा, मजबूत वैश्विक रुख के बीच कच्चे तेल के दामों में भी तेजी आई है.

उन्होंने कहा, “हमें भरोसा है कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक मामले पर नजर बनाये हुये और कर बोझ को कम करने समेत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है.”

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: