JharkhandRanchi

3 महीने से सहायक पुलिसकर्मियों को वेतन नहीं, भुखमरी की नौबत

विज्ञापन
  • सीता सोरेन ने सीएम से कहा-लें संज्ञान

Dumka: सहायक पुलिसकर्मी बगैर वेतन के 3 महीनों से दिन काट रहे हैं. बिना पैसों के ही उन्हें दशहरा, दीपावली से लेकर छठ तक मनाना पड़ा है. पॉकेट में पैसे नहीं होने से अब वे राशन तक को मोहताज हो गये हैं. भुखमरी की स्थिति उनके सामने आ चुकी है.

विधायक सीता सोरेन ने अब सीएम हेमंत सोरेन से सहायक पुलिसकर्मियों के वेतन भुगतान के लिए पहल करने की अपील की है. इसके लिए उन्होंने सीएम को ट्वीट किया है. इसमें कहा है कि विगत 3 महीने से दुमका के सहायक पुलिसकर्मियों को वेतन नहीं मिलने की सूचना प्राप्त हुई है. यह बेहद हीं दुर्भाग्यपूर्ण बात है. सहायक पुलिसकर्मियों का भी घर परिवार है. संकटकाल में भुखमरी की स्थिति भयावह स्थिति बयां कर रही है.

इसे भी पढ़ें – अगले साल रांची को मिलेंगे दो अर्बन फॉरेस्ट, धुर्वा और रिंग रोड में बनाने की तैयारी

हड़ताल पर गये थे 2500 पुलिसकर्मी

राज्य के लगभग 2500 सहायक पुलिसकर्मी 12 सितम्बर से मोरहाबादी में हड़ताल पर बैठे थे. मंत्री मिथिलेश ठाकुर से मिले आश्वासन के बाद 23 सितंबर को उन्होंने हड़ताल खत्म की थी.

उस दौरान मिथिलेश ठाकुर ने कहा था कि फिलहाल सभी सहायक पुलिसकर्मियों को दो साल का सेवा विस्तार दिया जा रहा है. एक उच्च स्तरीय समिति उनकी अन्य मांगों पर जल्दी ही निर्णय लेगी.

इसे भी पढ़ें – आठ महीने पुरानी एजेंसी के जरिये जेबीवीएनएल में बहाली की अफवाह

रेगुलर करने और बढ़िया वेतन की थी मांग

रघुवर दास सरकार के समय 2017 में तीन वर्ष बाद स्थायी बहाली के आश्वासन पर 2500 सहायक पुलिसकर्मियों को बहाल किया गया था. इनमें 800 महिलाएं भी थीं. 12 नक्सल प्रभावित जिलों में इनकी सेवा खासतौर पर ली जा रही थी. हर माह 10,000 रुपये का भुगतान इन्हें किया जा रहा था.

2020 में तीन साल पूरे होते ही ये पुलिसकर्मी सरकार से अपने वादे पूरे करने को रांची में सितंबर महीने से हड़ताल पर उतर आये थे. सरकार से उन्होंने उन सबों को रेगुलर किये जाने और बढ़िया वेतन देने की मांग की थी.

इसे भी पढ़ें – ‘निवार’ का खास असर झारखंड में नहीं, कल तक छाये रहेंगे बादल, कुछ जिलों में बारिश संभव

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: