JharkhandJharkhand PoliticsLead NewsRanchiTOP SLIDER

विधानसभा चुनाव : अब झारखंड के इन स्टारों के भरोसे UP में योगी को टक्कर देगी कांग्रेस

Amit Jha

Ranchi : इसी साल यूपी, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनावों में अपना कुनबा मजबूत करने को कांग्रेस पार्टी कमर कस रही है. चूंकि यूपी में उसके लिए सबसे अधिक चुनौती है. यहां से जीतने का मतलब दिल्ली का रास्ता आसान करना माना जाता है. ऐसे में पार्टी ने झारखंड से कई कांग्रेसियों को भी यूपी चुनाव में मोर्चे पर लगा दिया है.

इसे भी पढ़ें:सर्दी जुकाम और ओमिक्रोन के बीच ये हैं अंतर, ना हों कंफ्यूज, ये हैं Omicron के शुरुआती लक्षण

ये हैं स्टार प्रचारक

विधायक ममता देवी, अंबा प्रसाद, उमा शंकर अकेला, राजेश कच्छप, दीपिका पांडेय सिंह, इरफान अंसारी, पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी, पूर्व विधायक केशव महतो कमलेश, योगेंद्र बैठा, जेपी दत्ता, रांची की पूर्व मेयर रमा खलखो समेत ऐसे ही स्टार कैंपेनर की सेवाएं यूपी समेत उत्तराखंड और अन्य राज्यों के चुनावों में ली जानी है. प्रदेश कांग्रेस इसे अपनी उपलब्धि मान रहा है.

पार्टी के मुताबिक यह बताता है कि पार्टी आलाकमान का भरोसा झारखंड के कांग्रेसी सिपहसलारों पर बढ़ा है. अब देखना यह है कि झारखंड के स्टार कांग्रेसी प्रचारक दूसरे राज्यों में पार्टी की पॉपूलरिटी बढ़ाने में कितना सफल हो पाते हैं.

इसे भी पढ़ें:सुप्रियो ने सिद्धू को लिखा पत्र, कहा- पीएम की सभा में कम से कम 5 हजार कांग्रेसी को रखें तैयार

यूपी सीमा पर विशेष नजर

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा यूपी चुनाव में पार्टी को लीड कर रही हैं. यहां से पार्टी के लिए मनमाफिक रिजल्ट के लिए दूसरे राज्यों से भी स्टार प्रचारकों को लगाया जा रहा है. इसमें झारखंड से भी कई नेताओं को लगाया गया है. राजेश कच्छप, के एन त्रिपाठी, योगेंद्र बैठा, इरफान अंसारी समेत दूसरे नेताओं को झारखंड से सटे इलाकों में कैंपेन के लिए जिम्मा दिया जाना है. बतौर ऑब्जर्वर ऐसे नेताओं के साथ लखनऊ (यूपी) में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं संग बैठक हो चुकी है.

इसी तरह उत्तराखंड चुनाव में अपनी साख वापस पाने को भी कांग्रेस नेतृत्व ने दीपिका पांडेय सिंह, रमा खलखो को मोर्चे पर लगाया है.

राहुल गांधी, प्रियंका गांधी समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उम्मीद जतायी है कि इन प्रचारकों, सांगठनिक रूप से कुशल नेताओं की मेहनत से पार्टी को जरूर फायदा होगा.

दोनों ने उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत और दूसरे वरीय नेताओं संग चुनावी प्रबंधन पर काम करना शुरू भी कर दिया है.

इसे भी पढ़ें:Omicron’s का बढ़ता खतरा, रिम्स के मेडिसिन और सर्जरी वार्ड को बनाया जायेगा कोविड वार्ड

क्या कहते हैं प्रदेश अध्यक्ष

प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर कहते हैं कि झारखंड प्रभारी आरपी एन सिंह के मार्गदर्शन में पार्टी लगातार राज्य में मजबूत हो रही है. 2019 के चुनाव में पार्टी ने 30 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा, 16 पर कामयाबी मिली थी. हेमंत सरकार में कांग्रेस पार्टी के चार मंत्री भी बने हैं.

विगत वर्षों में बिहार, पश्चिम बंगाल, यूपी समेत दूसरे राज्यों में चुनाव हुए. इसमें बंगाल में तो पार्टी को जबर्दस्त चुनौती आयी. बिहार, यूपी में भी पार्टी को अपेक्षित परिणाम नहीं मिला था. पर झारखंड के चुनावी परिणाम से केंद्रीय नेतृत्व को उम्मीद लगती है.

यही वजह है कि शीर्ष नेतृत्व ने एक दर्जन से अधिक विधायकों, सांसदों, पूर्व मंत्रियों और विधायकों को चुनावी मोर्चे पर लगाया है. पार्टी नेता उम्मीद कर रहे हैं कि उनके अथक श्रम से दूसरे राज्यों में भी पार्टी कामयाबी का झंडा लहराएगी.

इसे भी पढ़ें :27 साल छोटी दूसरी पत्नी से SEX के वक्त दांत गड़ाता था 67 वर्षीय पति, कोर्ट ने कहा इसकी बत्तीसी निकालो

Advt

Related Articles

Back to top button