Lead NewsNational

असम की BJP सरकार बंद करने जा रही सरकारी खर्चे पर चल रहे राज्य के सभी मदरसे, नवंबर में जारी होगी अधिसूचना

  • ऐसे 100 संस्कृत स्कूल भी होंगे बंद
  • BJP विधायक और असम सरकार में शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने किया एलान

New Delhi : असम की भाजपा सरकार राज्य में सरकार द्वारा संचालित हो रहे सभी मदरसों को बंद करने की अपनी मंशा का एलान किया है. मदरसा ही नहीं, असम सरकार राज्य संचालित संस्कृत स्कूलों को भी बंद करने की मंशा रखती है. असम सरकार में शिक्षा मंत्री और BJP विधायक हिमंत बिस्वा सरमा ने सरकार की इस मंशा और तैयारी का एलान किया है.

नवंबर में अधिसूचना जारी करेगी असम सरकार

शिक्षा मंत्री ने कहा कि असम सरकार राज्य संचालित सभी मदरसों को बंद करने की एक अधिसूचना जारी करेगी. सरकार यह अधिसूचना नवंबर में जारी करेगी. उन्होंने कहा कि राज्य में लगभग 100 संस्कृत स्कूल भी बंद हो जायेंगे.

इसे भी पढ़ें-यूपीः चित्रकूट में गैंगरेप पीड़िता ने लगायी फांसी, पुलिस पर लापरवाही का आरोप, रेप केस में तीन गिरफ्तार

मदरसों को नियमित स्कूलों में तब्दील करने का है प्लान

हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, “राज्य द्वारा संचालित सभी मदरसों को नियमित स्कूलों में परिवर्तित किया जायेगा या कुछ मामलों में शिक्षकों को राज्य संचालित स्कूलों में ट्रांसफर किया जायेगा और मदरसों को बंद कर दिया जायेगा. इसके लिए नवंबर में अधिसूचना जारी की जायेगी.”

advt

‘सरकारी पैसे से कुरआन का शिक्षण नहीं हो सकता’

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, “मेरी राय में, कुरआन का शिक्षण सरकारी धन की कीमत पर नहीं हो सकता है. अगर हमें ऐसा करना है, तो हमें बाइबल और भगवद गीता दोनों को भी पढ़ाना चाहिए. इसलिए हम एकरूपता लाना चाहते हैं और इस प्रथा को रोकना चाहते हैं.”

इसे भी पढ़ें- सूचना के अधिकार को लेकर नहीं दिखती सजगता, 15 सालों में पूरे देश के महज 2.5% लोगों ने RTI किया इस्तेमाल

चार प्रतिशत मुस्लिम स्टूडेंट्स देश के मदरसों में पढ़ते हैं!

गौरतलब है कि मदरसे शैक्षणिक संस्थान हैं, जहां कुआन और इस्लामी कानून के अलावा व्याकरण, गणित, इतिहास और कविता जैसे विषय भी पढ़ाये जाते हैं. शैक्षणिक और शोध वेबसाइट द कन्वर्सेशन पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत सरकार की रिपोर्ट है कि चार प्रतिशत मुस्लिम छात्र देश के मदरसों में पढ़ते हैं. राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड (एसएमईबी) के अनुसार, असम में 614 मान्यता प्राप्त मदरसे हैं. एसएमईबी की वेबसाइट के अनुसार, इनमें से 400 उच्च मदरसे हैं, 112 जूनियर उच्च मदरसे हैं और बाकी 102 वरिष्ठ मदरसे हैं. कुल मान्यता प्राप्त मदरसों में से 57 लड़कियों के लिए हैं, तीन लड़कों के लिए हैं और 554 को-एड हैं. 17 मदरसे उर्दू मीडियम से चल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-जिस अस्पताल में पति-पत्नी करते थे सफाई, उसके फैसले की ‘कमान’ बेटे के हाथ आयी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: