न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

असम : कामाख्या मंदिर परिसर से महिला की सिर कटी लाश मिली, नर बलि की आशंका

गुवाहाटी कामरूप मेट्रो पुलिस कमिश्नर दीपक कुमार के साथ पुलिस की टीम घटनास्थल पहुंची   उन्होंने बताया कि  लाश के पास से पूजन सामग्री भी बरामद हुई हैं

199

Guwahati  :  असम की राजधानी गुवाहाटी  में स्थित  प्रसिद्ध शक्ति पीठ कामाख्या मंदिर परिसर के पास नवदुर्गा मंदिर की सीढ़ियों पर बुधवार मध्य रात एक महिला की सिर कटी लाश मिली है. इस घटना के बाद  इलाके में सनसनी फैल गयी. 22 जून से शुरू होने जा रही कामाख्या धाम में प्रसिद्ध अम्बुवासी मेले की तैयारियों में जुटे प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के बावजूद मंदिर परिसर के पास मिली सिर कटी लाश से 24 घंटे चौकसी के दावे पर सवालिया निशान खड़ा हो गया है.

घटना के बाद गुवाहाटी कामरूप मेट्रो पुलिस कमिश्नर दीपक कुमार के साथ पुलिस की टीम घटनास्थल पहुंची और  क्षेत्र का मुआयाना किया. उन्होंने बताया कि  लाश के पास से पूजन सामग्री भी बरामद हुई हैं . पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं.

Trade Friends

इसे भी पढ़ेंः राहुल गांधी का राफेल राग जारी, राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद कहा, मेरा रुख नहीं बदला, राफेल डील में चोरी हुई

लाश की पहचान नहीं हो पायी है

WH MART 1

पुलिस के अनुसार लाश की पहचान नहीं हो पायी हैं. नीलांचल पर्वत पर स्थित कामाख्या धाम क्षेत्र में रहने वाले लोगों ने संदेह जताया है कि  यह नरबलि की घटना हो सकती हैं.  जान लें कि हिन्दुओं के 51 शक्ति पीठों में से एक कामरूप कामाख्या मंदिर विशेष रूप से तंत्र साधना के लिए जाना जाता हैं.  गुवाहाटी के पश्चिम छोर पर स्थित कामाख्या जंक्शन से छह किलोमीटर की दूरी पर समुद्री तल से 800 फ़ीट की ऊंचाई पर नीलांचल पर्वत पर स्थित हैं. मान्यता है कि तांत्रिकों को तंत्र मन्त्र की सिद्धि कामाख्या धाम में पूजा अर्चना और भैंस ,बकरी की बलि देने के बाद ही पूर्ण होती है.

मंदिर में आज भी बकरी, भैसों की बलि प्रथा कायम है और शायद इसीलिए स्थानीय लोग कामाख्या धाम में सिर कटी मिली लाश से कयास लगाया जा  रहा है कि  सदियों पहले समाप्त हो चुकी नरबलि परंपरा में अब भी कई तांत्रिक विश्वास करते हैं.   फिलहाल पुलिस ने इस मामले पर कुछ भी बताने से इनकार करते हुए जांच जारी होने की बात कही है. पुलिस मंदिर परिसर में अम्बुवासी मेले के निगरानी में लगे 300 सीसीटीवी कैमरें की फुटेज खंगाल रही है.

इसे भी पढ़ेंः गुजरात: दलित सरपंच के पति की पीट-पीटकर हत्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like