JharkhandLead NewsRanchi

अशोक नगर सोसायटी मामला : कॉलर चमका कर ‘भ्रष्टाचार’ रोकने निकले अधिकारी मनोज कुमार के ही दामन पर हैं भ्रष्टाचार के आरोपों के दाग

DCO मनोज कुमार के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने और मनी लॉन्ड्रिंग की लिखित शिकायत पहुंची लोकायुक्त के पास

विज्ञापन

Anuj Tiwari

Ranchi : मामला शहर की अशोक नगर सोसायटी से जुड़ा है. इस सोसायटी में गड़बड़ियों का आरोप लगाकर को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार मृत्युंजय कुमार वर्णवाल ने सोसायटी की मैनेजिंग कमिटी को सस्पेंड (हालांकि आरोप भंग करने का लगा है) कर दिया है.

साथ ही, सोसायटी में हुई कथित गड़बड़ियों-भ्रष्टाचार की जांच करने की मंशा जताते हुए वर्णवाल ने जिला सहकारिता पदाधिकारी  मनोज कुमार को सोसायटी का प्रशासक (वर्णवाल के मुताबिक, विशेष पदाधिकारी) का प्रभार दे दिया है.

advt

मनोज कुमार रांची जिला के को-ऑपरेटिव ऑफिसर (DCO) हैं. इन्हीं के कंधे पर अशोकनगर सोसायटी की मैनेजिंग कमिटी में कथित भ्रष्टाचार और गड़बड़ियों की जांच करने और उन्हें रोकने की जिम्मेदारी है. लेकिन, बड़ी बात यह है कि DCO मनोज कुमार का दामन खुद ही भ्रष्टाचार और गड़बड़ियों के आरोपों से दागदार है.

अभी ताजा-ताजा 14 अक्टूबर को ही DCO मनोज कुमार के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने और मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगाते हुए लोकायुक्त के पास लिखित शिकायत की गयी है.

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि DCO मनोज कुमार पर पहले से ही भ्रष्टाचार के कई मामले चल रहे हैं.  लेकिन इसके बावजूद उन्हें जिस तरह से अशोक नगर सोसायटी के प्रशासक का प्रभार दिया गया है, वह भी गलत है. वह खुद सोसायटी के सदस्य हैं और उनके नाम एक प्लॉट भी अशोक नगर में है. जबकि नियमानुसार सदस्य कभी भी प्रशासक नहीं बनाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः ई लोक अदालत में 3308 मामलों का हुआ निष्पादन

adv

पत्नी के नाम पर है 15 करोड़ का होटल

आरोप है कि जिला सहकारिता पदाधिकारी (DCO) मनोज कुमार ने करोड़ों की संपत्ति अर्जित की है. लोकायुक्त से की गयी शिकायत में कहा गया है कि राजधानी रांची के स्टेशन रोड में होटल आर्ची उनकी पत्नी के नाम पर लिया गया है. आरोप यह भी है कि मैक्लुस्कीगंज में भी मनोज कुमार ने करोड़ों की जमीन खरीद रखी है. जबकि, उन्होंने 2018 में दिये गये एफिडेविट में कहा है कि उनके परिवार या उनके पास किसी तरह की कोई जमीन या प्रॉपर्टी नहीं है.

हरमू हाउसिंग कॉलोनी में चार करोड़ की संपत्ति से उठाया जा रहा है किराया

आरोप है कि हरमू हाउसिंग कॉलोनी में प्लॉट बी 111 एमआईजी में पांच वर्ष पहले आलिशान बंगला बनाया गया, जिसे बाद में एक स्कूल को लीज पर दिया गया. यहां से जिला के सहकारिता पदाधिकारी मनोज कुमार हर माह मोटी रकम वसूल रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः फादर स्टेन स्वामी की रिहाई की मांग को लेकर न्याय मार्च, राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा

हिनू में है पांच करोड़ का भव्य बंगला

आरोप यह भी लगा है कि जो पदाधिकारी (DCO मनोज कुमार) अशोक नगर में प्लॉट लेकर उसे लंबे समय से छोड़नेवालों पर कार्रवाई कर रहे हैं, वह खुद शहर के बीचोंबीच 10 किलोमीटर से भी कम दूरी में तीन बंगलों के मालिक हैं. फिलहाल वह हिनू में बने जिस मकान में रहते हैं, वह करीब पांच करोड़ रुपये का बताया जा रहा है.

पहले भी विभाग ने जांच के लिए उठाया है कदम

जिला सहकारिता पदाधिकारी (DCO) पर इससे पहले भी आय से अधिक संपत्ति मामले में सहकारिता विभाग की ओर से जांच की जा रही है. जांच का यह आदेश भी शिकायत मिलने के बाद संबंधित प्रशासनिक पदाधिकारी को दिया गया था. इस जांच पर भी मनोज कुमार ने गलत आरोप लगाने की बात कही थी.

शिकायतकर्ता ने लोकायुक्त को दिया DCO मनोज कुमार की संपत्तियों का ब्योरा

DCO मनोज कुमार के खिलाफ लोकायुक्त से की गयी अपनी लिखित शिकायत में शिकायतकर्ता ने DCO मनोज कुमार की संपत्तियों का ब्योरा भी दिया है. इसमें शिकायतकर्ता ने बताया है कि मनोज कुमार ने कहां-कहां अचल संपत्ति ले रखी है.

जबकि 2018 में अपने द्वारा दिये गये एफिडेविट में DCO मनोज कुमार ने घोषणा की है कि वह या उनके परिवार का को भी सदस्य रांची में किसी भी भूखंड पर मालिकाना हक नहीं रखता है. उनके इस एफिडेविट को झूठा बताते हुए शिकायतकर्ता ने लोकायुक्त को मनोज कुमार द्वारा अर्जित अचल संपत्ति का ब्योरा दिया है.

इसे भी पढ़ेंः अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बेटे महाअक्षय के खिलाफ रेप और धोखाधड़ी का केस दर्ज

मनोज कुमार बोले- सिर्फ अपने उच्चस्तरीय पदाधिकारी को दूंगा जवाब

इधर, DCO मनोज कुमार ने इन सभी आरोपों को गलत बताया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी जवाब देना होगा, वह अपने उच्चस्तरीय पदाधिकारी को देंगे.

इसे भी पढ़ेंः असम में राज्य सरकार की ओर से संचालित मदरसों को हाई स्कूलों में तब्दील किया जायेगा

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button