न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आसनसोल #ChamberofCommerce के सदस्यों में टकराव, फैसलों को बताया असंवैधानिक

585

Asansol : सोमवार की देर शाम मुर्गासोल स्थित आसनसोल चेंबर ऑफ कॉमर्स के सभागार में आयोजित बैठक में चेंबर अध्यक्ष ओम प्रकाश बगडिया के निर्णयों को असंवैधानिक बताते हुए मंगलवार को चेंबर के सलाहकार आरएएन यादव एवं सचिव श्रवण अग्रवाल ने होटल आसनसोल इन के सभागार में इसका प्रतिवाद किया.

सलाहकार यादव ने चेंबर के संविधान को सर्वोपरि बताते हुए  अध्यक्ष बगाडिया पर चेंबर के संविधान की अवमानना करने और मनमाने ढंग से काम करने का आरोप लगाया.

इसे भी पढ़ें : #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

आठ नये लोगों को शामिल करने का एजेंडा नहीं था

उन्होंने कहा कि सोमवार  को आयोजित बैठक में शंभुनाथ झा सहित  आठ नये लोगों को चेंबर में शामिल करने का कोई एजेंडा नहीं था और नहीं कमेटी सदस्यों से इस पर कोई विचार विमर्श ही किया गया था.  इसके बावजूद अध्यक्ष श्री बगडिया ने आठ लोगों को चेंबर में शामिल किया.

उन्होंने बगडिया पर हिटलरशाही अंदाज में काम करने और अपने निजी निर्णयों को चेंबर पर थोपने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि शंभुनाथ झा के न्यायालय में दायर किये गये मामले को उठाने संबंधित कोई दस्तावेज बतौर सलाहकार उन्हें या सचिव के पास उपलब्ध नहीं कराये गये हैं.

बैठक में चेंबर के नोन एक्सक्यूटिव सदस्यों को एक्सक्यूटिव कमेटी की बैठक में दिये गये एजेंडा पर वक्तव्य रखने पर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह चेंबर की गरिमा से खिलवाड़ है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद : PMCH में शव को पोस्टमॉर्टम हाउस ले जाने के लिए नहीं मिला वाहन, स्ट्रेचर पर ले गयीं बेटियां

दायित्वों और कार्यक्षेत्र को समझें बगड़िया

सचिव श्रवण अग्रवाल ने कहा कि बैठक  के नोटिफिकेशन का अधिकार बतौर सचिव उनका है. परंतु अध्यक्ष श्री बगडिया अपने मनमर्जी से चेंबर के बैठक संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिये जिसका अधिकार उन्हें नहीं है. उन्होंने कहा कि अध्यक्ष अपने दायित्वों और कार्य क्षेत्र को समझें और उसके अनुरूप कार्य करें.

बैठक में चेंबर के सलाहकार सुब्रत दत्त एवं चेंबर के लिगल सेल कमेटी के चेयरमैन सुब्रतो दत्तो को भी सूचना नहीं दी गयी. सुब्रतो दत्तो ने कहा कि सोमवार की बैठक के संबंध में सचिव के स्तर से उन्हें कोई सूचना नहीं दी गयी थी.

जबकि सलाहकार होने के नाते उन्हें बैठक की सूचना दी जानी चाहिए थी. अवसर पर चेंबर के मनोज साहा, मुकेश तोदी, संतोष आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : जाने-माने व्यवसायी नरेंद्र की संदेहास्पद मौत, पुलिसिया जांच पर उठ रहे सवाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: