BiharCrime News

चुनाव परवान चढ़ने के साथ बिहार में शराब की तस्करी भी बढ़ी, पटना से सबसे अधिक बरामदगी

Patna: बिहार में पंचायत चुनाव के परवान चढ़ने के साथ ही शराब धंधे ने जोर पकड़ लिया है. शराब माफिया राज्य के तकरीबन सभी जिलों में सक्रिय है. सरकार द्वारा लागू शराबबंदी के बावजूद राज्य के हर हिस्से में शराब की उपलब्धता है. बेशक, पुलिस जहां-तहां शराब पकड़ रही है और धंधेबाजों को गिरफ्तार कर रही है. मगर यह बेअसर है. जिन दस जिलों में पहले चरण का मतदान हुआ वहां से करीब एक माह में एक लाख 25 हजार लीटर शराब पुलिस ने पकड़ी है. जाहिर है इससे अधिक शराब लोगों तक पहुंची होगी.

इसे भी पढ़ें : रिम्सः डिस्पेंसरी बंद, फार्मासिस्ट बन गए क्लर्क, मरीजों को कैसे मिलेगी दवाई

पुलिस मुख्यालय के अनुसार, पिछले माह 24 अगस्त से पूरे राज्य में चार लाख 50 हजार लीटर से अधिक शराब जब्त की गई है. इसमें एक लाख 25 हजार लीटर शराब सिर्फ पहले चरण के 10 जिलों से बरामद हुई है. वाहन चेकिंग के दौरान चार करोड़ 49 लाख 78 हजार रुपये की जुर्माना राशि वसूली गई है, इसमें से एक करोड़ 46 लाख 56 हजार 300 रुपये की राशि पहले चरण वाले जिलों से वसूली गई है. मद्य निषेध इकाई की टीम ने दो दिनों में 17 हजार लीटर से अधिक शराब जब्त की है. इसमें सबसे अधिक 5250 लीटर स्प्रिट मोतिहारी के पिपरा थाना क्षेत्र से एक ट्रक से पकड़ा गया है. मुजफ्फरपुर के मुसहरी से यूपी के ट्रक में लदी 4374 लीटर शराब जब्त की गई है. इसके अलावा पूर्णिया, बेगूसराय, कटिहार, औरंगाबाद, सुपौल आदि में भी जांच टीम ने शराब जब्त की है.

advt

सितंबर में सबसे ज्यादा पटना जिले में जब्त की गई है शराब

जिला          जब्त शराब (शराब की मात्रा लीटर में)

पटना           13,196
कैमूर           12,653
औरंगाबाद     9,930
वैशाली          9,277
नवादा           8,690
बेगूसराय       7,180

इसे भी पढ़ें : Ranchi  से रानीगंज जा रहे कार मालिक से मैथन टोल प्लाजा पर फाइन को ले विवाद, घंटों काउंटर नं 3 पर लगा जाम

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: