न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Dedicated_Freight_Corridor_Corporation का गलियारा शुरू होते ही  70 प्रतिशत मालगाड़ियों को जाम से निजात मिलेगी

देश में मालवाहक रेलगाड़ियों की गति को 100 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंचाने का लक्ष्य तय किये जाने के साथ ही भारतीय रेलवे के 70 प्रतिशत मालवहन बोझ के खत्म होने की उम्मीद है.

107

Prayagraj : डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (डीएफसीसीआईएल) द्वारा देश में मालवाहक रेलगाड़ियों की गति को 100 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंचाने का लक्ष्य तय किये जाने के साथ ही भारतीय रेलवे के 70 प्रतिशत मालवहन बोझ के खत्म होने की उम्मीद है. डीएफसीसीआईएल का मानना है कि इससे यात्री गाड़ियों के परिचालन की क्षमता बेहतर होगी.

डीएफसीसीआईएल के प्रबंध निदेशक अनुराग सचान ने यहां संवाददाताओं से कहा, हमारा गलियारा पूरी तरह मालवहन को समर्पित है. भारतीय रेल का जब 70 प्रतिशत यातायात हमारे गलियारे पर आ जायेगा तो भारतीय रेल गतिमान और वंदे भारत जैसी तेज गति वाली और अधिक यात्री रेलगाड़ियां चला पायेगा.

इसे भी पढ़ें : #Coal_India  : कोयले का उत्पादन 3.9 प्रतिशत घटा, बिजली क्षेत्र को कोयला आपूर्ति में सात प्रतिशत गिरावट

मालवाहक रेलगाड़ियों की औसत गति 25 किलोमीटर प्रतिघंटा

सचान ने कहा भारतीय रेल की यात्री गाड़ियां अभी 60 और 70 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की रफ्तार से नहीं चल सकतीं क्योंकि समान पटरियों पर ही मालवाहक रेलगाड़ियां भी दौड़ती हैं और इनकी औसत गति 25 किलोमीटर प्रतिघंटा है. वह यहां पूर्वी समर्पित मालवहन गलियारा के एक निर्माण स्थल की यात्रा के दौरान पत्रकारों से संवाद कर रहे थे.

यह गलियारा पंजाब में लुधियाना से शुरू होकर कोलकाता के पास दानकुनी तक जाता है. पूर्वी गलियारे के दिसंबर 2021 तक पूरा होने और आंशिक तौर पर चालू होने की उम्मीद है.

Whmart 3/3 – 2/4

इसे भी पढ़ें : अपनी यात्रा से पहले #Trump ने कहा, भारत हमारे व्यापार को प्रभावित कर रहा है, मोदी के साथ करेंगे बात

डीएफसीसीआईएल का पूर्वी गलियारा 1,856 किलोमीटर लंबा है

सचान ने कहा कि डीएफसीसीआईएल जल्द ही पार्सल सेवाओं के लिए पूर्वी गलियारे के कानपुर से खुर्जा खंड पर परिचालन शुरू कर देगी. डीएफसीसीआईएल का पूर्वी गलियारा 1,856 किलोमीटर लंबा है. इसे विश्वबैंक की ओर से आंशिक मदद मिली है. वहीं पश्चिम समर्पित मालवहन गलियारा हरियाणा के रेवाड़ी से शुरू होकर मुंबई के जवाहर लाल नेहरू बंदरगाह तक जायेगा.

अभी देश का अधिकतर मालवहन सड़क मार्ग से होता है

इसे जापान सरकार की वित्तीय सहायता इकाई जापान अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (जीका) से मदद मिली है. सचान ने कहा कि भारतीय रेल 1950 के दशक से मालवहन कर रही है. पहले यह देश के कुल मालवहन का 86 प्रतिशत संभालती थी लेकिन अब यह घटकर 36 प्रतिशत रह गया है.

अब देश का अधिकतर मालवहन सड़क मार्ग से होता है. उन्होंने कहा कि चीन में 47 प्रतिशत तक और अमेरिका में 48 प्रतिशत तक मालवहन रेल नेटवर्क से होता है जो एक आदर्श स्थिति है.

इसे भी पढ़ें : अहमदाबाद :  #Congress का सवाल, दौरा आधिकारिक नहीं, आखिर कौन कर रहा है नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम का आयोजन?

 

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like