न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जितनी चिंता #Kashmir पर जता रहे हैं, उतनी चीन में नजरबंद मुसलमानों को लेकर भी जताये पाकिस्तान : अमेरिका

ऐलिस वेल्स ने कहा, मैं पश्चिमी चीन में नजरबंद किये गये मुसलमानों को लेकर भी उसी स्तर की चिंता देखना चाहूंगी, जो नाजी शिविरों की तरह के हालात में रह रहे हैं.  

61

NewYork : अमेरिका की ऐक्टिंग असिस्टेंट सेक्रटरी (साउथ ऐंड सेंट्रल एशिया) ऐलिस वेल्स  ने कश्मीर पर झूठी कहानी सुना रहे पाकिस्तान की  खिंचाई की है.  पाकिस्तान के दोहरे मापदंड को उजागर करते हुए कहा कि वह जितनी चिंता कश्मीर पर जता रहा है, उतनी चीन में नजरबंद मुसलमानों को लेकर भी दिखाये.

अमेरिका की ऐक्टिंग असिस्टेंट सेक्रटरी ने गुरुवार को पूछा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चीन के बारे में क्यों नहीं बोल रहे, जहां पर 10 लाख उइगर और अन्य तुर्की भाषा बोलने वाले मुसलमानों को नजरबंद रखा गया है.

इसे भी पढ़ें : दक्षिण एशिया में फलदायी सहयोग के लिए #Terrorism का खत्म होना जरूरी  : जयशंकर

चीन में नजरबंद मुसलमान नाजी शिविरों की तरह के हालात में रह रहे हैं

जान लें कि  कश्मीर पर पाकिस्तान के पीएम की कथित चिंता को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में  ऐलिस वेल्स ने कहा, मैं पश्चिमी चीन में नजरबंद किये गये मुसलमानों को लेकर भी उसी स्तर की चिंता देखना चाहूंगी, जो नाजी शिविरों की तरह के हालात में रह रहे हैं.

कहा कि पाकिस्तान को चीन के मुसलमानों की ज्यादा चिंता करनी चाहिए , क्योंकि वहां मानवाधिकारों का उल्लंघन ज्यादा है,  वेल्स ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान ट्रंप प्रशासन ने पूरे चीन में मुसलमानों के साथ हो रही ज्यादती और भयानक हालात के मुद्दे को प्रमुखता से उठाया है.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें : सरकार के आश्वासन से कितने संतुष्ट हैं पारा टीचर, हमें लिखे…

पाकिस्तान मुस्लिम दांव भी चल रहा है

Related Posts

#Bank_Of_America के CEO ब्रायन टी मोयनिहान ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था अच्छी स्थिति में है…

पूर्व में अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी भी भारतीय अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने का संकेत दे चुके हैं. 

वेल्स की प्रतिक्रिया ऐसे समय में आयी है जब पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म करने के भारत के फैसले पर दुष्प्रचार कर रहा है.  वह मुस्लिम दांव भी चल रहा है.  हाल में पाक पीएम इमरान खान ने न्यू यॉर्क में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि दुनिया चुप है क्योंकि मामला मुसलमानों का है.

Sport House

हालांकि चीन में मुसलमानों पर ही हो रहे अत्याचार पर चुप्पी से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का कश्मीर पर प्रॉपेगैंडा साफ हो जाता है.  जब भी चीन में मुसलमानों के हालात पर इमरान खान से सवाल होते हैं तो वह यह कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं कि उनके अपने देश में काफी समस्याएं हैं, जिन पर उन्हें ध्यान देना है.

पिछले  सोमवार को  एक थिंक टैंक के कार्यक्रम में उइगरों को लेकर पूछे गये  सवाल पर इमरान ने टिप्पणी करने से ही इनकार कर दिया था.  उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के चीन के साथ खास संबंध हैं और हम केवल निजी तौर यह मुद्दा उठाएंगे.  उधर, पाक का सदाबहार दोस्त चीन अपने देश में रहने वाले अल्पसंख्यकों पर ऐक्शन की आलोचना करने वाले देशों की निंदा करता रहता है.  संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि चीन में करीब 10 लाख उइगर और दूसरे मुसलमानों को नजरबंद किया गया है.

चीन अपने हिरासत शिविरों को प्रशिक्षण शिविर बताता है.  उसका कहना है कि इन शिविरों के जरिए वह कट्टरपंथ को खत्म करने के साथ ही लोगों की स्किल्स बढ़ा रहा है.  हाल में अमेरिका के नेतृत्व में 30 से ज्यादा देशों ने शिनजियांग प्रांत में चीन द्वारा मुसलमानों पर किये जा रहे अत्याचारों की आलोचना की थी.

इसे भी पढ़ें : सुनिये सरकार, 1000 रुपये फॉर्म की फीस पर क्या कह रहे हैं बेरोजगार युवक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like