न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अरविंद केजरीवाल और राघव चड्ढा ने शहीद बिरेंद्र सिंह और दीपक कुमार के परिजनों को दी एक-एक करोड़ की सम्मान राशि

हाल की घटनाओं के बावजूद मुआवजे की नीति जारी रखेंगे सीएम केजरीवाल

374

New Delhi: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ परिवहन मंत्री कैलाश गेहलोत, पालम विधायक भावना गौर और आप नेता राघव चड्ढा ने आज पालम में शहीद पुलिस अधिकारियों बिरेंद्र सिंह और दीपक कुमार को श्रद्धांजलि अर्पित की. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दिल्ली सरकार की मुआवजे नीति के तहत पुलिस अधिकारियों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि भेंट की. दिल्ली सरकार की मुआवजे नीति में सुरक्षा बल, पुलिस और अर्धसैनिक इकाइयां शामिल हैं जो ड्यूटी में अपने प्राण न्योछावर कर देते हैं.

खिलाड़ियों को इनाम देती हैं सरकारें, शहीदों को भूल जाती हैंः केजरीवाल

जनसमूह को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा- “आज हम, हमारे बच्चों और हमारे परिवार बिरेंद्र सिंह और दीपक कुमार जैसे साहसी पुलिसकर्मियों के कारण सुरक्षा की भावना महसूस करते हैं. ‘हमारे देश में, जब खेल के सितारों की वापसी होती है, सरकारें उनपर इनाम और उपहार बरसाती हैं. लेकिन सैनिकों के बारे में क्या है जो देश के प्रति कर्तव्य निभाते हुए अपना जीवन खो देते हैं? हम उनके बलिदान के बारे में कैसे भूल सकते हैं? हमने 2015 में ही मुआवजे की नीति को मंजूरी दे दी थी. हम दोनों शहीदों की शहादत के एक महीने के भीतर सम्मान राशि देना चाहते थे. लेकिन एलजी ने हमारी नीति पर आपत्तियां लगा दीं. इसीलिए हम ऐसा करने में असमर्थ थे. मुझे बेहद दुख हुआ कि वे शहीद के परिवारों को मुआवजा देने जैसी पॉलिसी भी रोक देते हैं.

श्री केजरीवाल ने कहा- “इसी महीने मुझ पर दो बार हमले हुए. एक बार सिग्नचेर ब्रिज के उद्घाटन के दौरान कुछ गुंडों ने मुझ पर स्टेज पर बोतलें फेंकी. इसके बाद सचिवालय में एक व्यक्ति ने मेरी आँख में लाल मिर्च डाल कर हमला किया. इससे हमारे विधायक दुखी हुए और कहा कि दिल्ली पुलिस को इस योजना से हटा दिया जाना चाहिए क्योंकि वे मुझे सुरक्षा देने में असफल रहे और अपना कर्तव्य नहीं निभा रहे. लेकिन मैं इससे सहमत नहीं हूं. दिल्ली पुलिस मेरे परिवार की तरह है.” “मैं दिल्ली पुलिस का सम्मान करता हूं. शायद कुछ वरिष्ठ अधिकारी गलत काम करते हैं. लेकिन कॉन्स्टेबल और पुलिस के अन्य अधिकारी बिरेन्द्र सिंह और दीपक कुमार जैसे लोग भी हैं, जो दिल्ली पुलिस का सम्मान बढ़ाते हैं. ये लोग हमारे शहर की सुरक्षा के लिए अपना जीवन खतरे में डालते हैं.

केंद्र को पांच करोड़ मुआवजा देना चाहिएः  चड्ढा

इस अवसर पर आप के दक्षिणी दिल्ली लोकसभा प्रभारी राघव चड्ढा ने कहा- “दिल्ली सरकार किसी भी राज्य या यहां तक ​​कि केंद्र सरकार के शहीदों को उच्चतम मुआवजा देती है. अगर दिल्ली जैसा छोटा राज्य अपने शहीदों को एक करोड़ सम्मान राशि दे सकता है, तो केंद्र सरकार को अधिक उदार बनना चाहिए और पांच करोड़ मुआवजा देना चाहिए.”

इसे भी पढ़ें – अयोध्या: मीडिया 1992 की तरह एक बार फिर सांप्रदायिकता की आग में घी डाल रहा है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: