न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अरुण जेटली का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन

गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद समेत कई नेता भावुक नजर आये.

36

NewDelhi : पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया. रविवार को यमुना के किनारे निगम बोध घाट पर उनका पूरे राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और भाजपा के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे.  गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद समेत कई नेता भावुक नजर आये. केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी और अनुराग ठाकुर, भाजपा सांसद विजय गोयल और विनय सहस्रबुद्धे, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और कपिल सिब्बल , महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, बिहार और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री: देवेंद्र फड़णवीस, विजय रुपाणी, बी एस येदियुरप्पा, नीतीश कुमार और त्रिवेंद्र सिंह रावत भी अंतिम संस्कार में मौजूद रहे.

भाजपा  के अलावा बाकी दलों के नेताओं ने भी निगम बोध घाट पर जेटली को अंतिम विदाई दी.  दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया समेत कई कांग्रेस नेताओं ने भी जेटली को अंतिम विदाई दी.

इससे पूर्व अरुण जेटली का पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय से निगम बोध घाट फूलों से सजी तोप गाड़ी में ले जाया गया.  पूरा माहौल जेटली जी अमर रहें के नारों से गूंजता रहा. इससे पहले पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए भाजपा मुख्यालय लाया गया, जहां केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई नेताओं ने जेटली को श्रद्धांजलि दी.

इससे पहले शनिवार को जेटली के आवास पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, अमित शाह, राजनाथ सिंह, लालकृष्ण आडवाणी, मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, सोनिया गांधी, अरविंद केजरीवाल, डॉ. हर्षवर्धन, चंद्रबाबू नायडू समेत कई नेता श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे.  66 वर्षीय जेटली का शनिवार को एम्स में निधन हो गया था , जहां नौ अगस्त को उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया था.

इसे भी पढ़ें- विपक्षी दलों ने श्रीनगर DM पर गलत तरीके से रोकने का आरोप लगाया

मैंने खास दोस्त खो दिया : मोदी

रविवार  सुबह पूर्व वित्त मंत्री का पार्थिव शरीर उनके कैलाश कॉलोनी स्थित घर से पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित भाजपा मुख्यालय लाया गया. जेटली का निधन ऐसे वक्त हुआ है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  विदेश दौरे पर हैं.  उन्होंने ट्वीट कर कहा, मैंने खास दोस्त खो दिया, जिन्हें दशकों से जानने का सम्मान मुझे प्राप्त था.  मुद्दों पर उनकी समझ बहुत गहरी थी.  वह हमें अनेक सुखद स्मृतियों के साथ छोड़ गये.

उन्होंने देश को आर्थिक मजबूती दी. जेटली ने साहस और गरिमा के साथ लंबी बीमारी से जंग लड़ी.  वही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि एक प्रतिभाशाली वकील, अनुभवी सांसद और प्रतिष्ठित मंत्री के रूप में जेटली ने राष्ट्र के निर्माण में बड़ा योगदान दिया.

इसे भी पढ़ें- टॉप सात कंपनियों  को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ का नुकसान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: