National

लोकसभा चुनाव में लोगों के समक्ष ‘मोदी या अराजकता’ में चुनने का विकल्प : अरुण जेटली

New Delhi : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को कहा कि ‘महागठबंधन’ प्रतिद्वन्द्वी दलों का आत्मघाती गठजोड़ है और लोकसभा चुनाव में लोगों को ‘मोदी या अराजकता’ में से चयन करना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली राजग आसन्न लोकसभा चुनाव में दूसरी बार जनादेश प्राप्त करने के लिये उतर रही है. इस चुनाव में 90 करोड़ लोगों के मतदान करने की उम्मीद है. लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से शुरू हो रहा है और 23 मई को मतगणना होगी.

इसे भी पढ़ें : भाजपा पर तंज कसने के चक्कर में मसूद अजहर के लिए ‘जी’ बोल गए राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक पूर्ण नेता नहीं

ram janam hospital
Catalyst IAS

जेटली ने अपने ब्लाग में कहा, ‘‘जिसे महागठबंधन के रूप में पेश किया गया वह कई प्रतिद्वंद्वी गठबंधनों के ‘गठबंधन’ के तौर पर सामने आ रहा है. यह ‘प्रतिद्वंद्वियों का आत्मघाती गठबंधन’ है.’’उन्होंने अपने ब्लाग में लिखा कि विपक्षी खेमे में नेतृत्व का मुद्दा पहेली बना हुआ है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक पूर्ण नेता नहीं हैं. उन्होंने लिखा, ‘‘वह आजमाये हुए और असफल हैं. मुद्दों पर उनकी समझ की कमी भयावह हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक पूर्ण नेता नहीं हैं.’’ भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि विपक्षी गठबंधन अस्पष्ट और कमजोर है.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें : देशवासियों को तय करना है उन्हें गांधी का हिंदुस्तान चाहिए या गोडसे काः राहुल गांधी

Related Articles

Back to top button