Education & CareerRanchi

CBSE स्कूलों में इसी सत्र से शुरू होगी आर्ट-इंटिग्रेटेड शिक्षा, नोटिस हुआ जारी

Ranchi : सीबीएसई क्लास 1 से 10 तक के बच्चों के लिए एक नये विषय की शुरुआत करने जा रही है.जुसका नाम है: आर्ट-इंटिग्रेटेड. इस नयी शुरुआत की जानकारी सीबीएसई के वेबसाइट पर जाकर ली सकती है. सीबीएसई ने इस नये विषय से संबंधित 19 पेज की डिटेल अपने वेबसाइट पर डाली है.

कोई भी अभिभावक और स्टूडेंट्स इससे संबंधित जानकारी वेबसाइट की लिंक http://cbseacademic.nic.in/web_material/Circulars/2020/Art_Integration_Circular.pdf  से ले सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – पीयूष गोयल को है जानकारी का अभाव, 110 ट्रेनों के लिए दी है NOC, कहें तो भेज दें पूरी लिस्ट: हेमंत सोरेन

advt

2020-21 से शुरू होगी आर्ट-इंटिग्रेटेड

सीबीएसई की ओर से क्लास 1 से 10वीं तक के छात्रों को आर्ट-इंटिग्रेटेड शिक्षा देने से संबंधित नोटिस जारी किया है. इस नोटिस में सीबीएसई ने कहा है कि प्रत्येक विषय में 9वीं, 10वीं छात्रों से कम से कम एक आर्ट बेस्ड प्रोजेक्ट कराना चाहिए.

ऐसा प्रोजेक्ट आधारित पढ़ाई इसी एकेडमिक ईयर 2020-2021 से ही शुरू किया जाये. इसके साथ ही पहली कक्षा से 8वीं तक के छात्रों को भी कम से कम एक आर्ट बेस्ड प्रोजेक्ट बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.

हर क्लास के लिए अलग प्रोजेक्ट्स

सीबीएसई की ओर से जो विस्तृत सूचना जारी की गयी है. उसमें बताया गया है कि क्लास 1 से 8 तक के लिए होने वाले प्रोजेक्ट ट्रांसडिसिप्लीनरी प्रकृति का होना चाहिए. प्रोजेक्ट वर्क में एक से ज्यादा विषय जुड़ें हों. साथ ही इसे विषय के इंटरनल एसेसमेंट के तौर पर माना जाये.

वहीं क्लास 9 और 10 के सभी स्टूडेंट्स सभी विषयों के इंटरनल एसेसमेंट के लिए आर्ट इंटिग्रेटेड प्रोजेक्ट बनायेंगे, जो एक विषय को और ज्यादा प्रभावी बनाने वाला होगा.

adv

देश की सांस्कृतिक विशालता व भिन्नता से कराना है अवगत

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के मुताबिक, इस प्रोजेक्ट को लागू करने के पीछे देश की सांस्कृतिक विशालता औैर भिन्नता के बारे में स्टूडेंट्स को अवगत कराना है. इसलिए छात्र विषय के साथ भारतीय काल के किसी एक रूप में अपनी प्रस्तुति तैयार करेंगे.

यह वीडियो या परफॉर्मेंस पर आधारित हो सकती है. सीबीएसई ने यह भी कहा है कि क्लास 1 से 10वीं तक के छात्रों को कम से कम एक प्रोजेक्ट वर्क में भारत के किसी राज्य/यूटी के आर्ट फॉर्म को दिखाना होगा.

जो एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम का हिस्सा होगा. बोर्ड ने स्कूलों से कहा है कि वे आर्ट एजुकेशन और छात्रों के आर्ट इंटिग्रेटेड लर्निंग प्रोजेक्ट का डेटा अपलोड करेंगे. इसके लिए प्रोजेक्ट तैयार किये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें –शराब बेचने की व्यवस्था तो मंत्री जगरनाथ महतो ने कर दी लेकिन, निजी स्कूलों ने वसूल ली फीस फिर भी नहीं निकाले आदेश

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button