न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जवाबी कार्रवाई के लिए सेना के हाथ हमेशा खुले थे: रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डी एस हुड्डा

836

Panji: साल 2016 में की गई सर्जिकल स्ट्राइक की अगुवाई कर चुके लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डी एस हुड्डा ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार ने सेना को सीमा पार हमले करने की अनुमति देने में बहुत बड़ा संकल्प दिखाया है, लेकिन सेना के हाथ उससे पहले भी बंधे हुए नहीं थे. हुड्डा विज्ञापन संगठनों द्वारा आयोजित एक वार्षिक कार्यक्रम ‘गोवा फेस्ट’ में बोल रहे थे.

इसे भी पढ़ेंःपलामू : राजनीतिक दलों को चुनाव से संबंधित बैंक खाते और आय-व्यय के लिए…

सेना हमेशा से स्वतंत्र

उन्होंने कहा, “मौजूदा सरकार ने सीमा पार जाकर सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट में हवाई हमले की अनुमति देने में निश्चित रूप से महान राजनीतिक संकल्प दिखाया है. लेकिन इससे पहले भी आपकी सेना के हाथ नहीं बंधे थे.”

उन्होंने कहा, “सेना को खुली छूट देने के बारे में बहुत ज्यादा बातें हुई हैं, लेकिन 1947 से सेना सीमा पर स्वतंत्र है. इसने तीन-चार युद्ध लड़े हैं.”

इसे भी पढ़ेंःसिल्ली विधायक सीमा देवी ने हिंडालको कास्टिक तालाब हादसे की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की

Related Posts

 नजरबंद उमर अब्दुल्ला हॉलिवुड फिल्में देख रहे हैं, महबूबा मुफ्ती किताबें पढ़ समय बिता रही हैं

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले से पहले कश्मीर के कई राजनेता नजरबंद किये गये थे.

SMILE

अनुमति लेने का सवाल नहीं

हुड्डा ने कहा, “नियंत्रण रेखा एक खतरनाक जगह है. क्योंकि जैसा कि मैंने कहा कि आपके ऊपर गोलीबारी की जा रही है और जमीन पर सैनिक इसका तुरंत जवाब देंगे. वे (सैनिक) मुझसे भी नहीं पूछेंगे. कोई अनुमति लेने का कोई सवाल ही नहीं है. सेना को खुली छूट दी गई है और यह सब साथ में हुआ है, कोई विकल्प नहीं है.”

हुड्डा ने सितंबर 2016 में उरी आतंकी हमले के बाद सीमा-पार सर्जिकल स्ट्राइक के समय सेना की उत्तरी कमान की अगुवाई की थी.

इसे भी पढ़ेंःसोशल मीडिया वेबसाइटों पर चुनाव प्रचार में होने वाला खर्च उम्मीदवारों के व्यय का हिस्सा  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: