न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सेना ने अपने अधिकारियों को वॉट्सऐप ग्रुप छोड़ने को कहा, सुरक्षा कारणों का हवाला दिया

खुफिया रिपोर्टों के अनुसार विदेशी खुफिया एजेंसियां सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए भारतीय सेना की जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास कर रही है.

74

NewDelhi :  भारतीय सेना ने दिशानिर्देश जारी कर सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए अपने जवानों और अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे किसी भी सोशल मीडिया समूह से न जुड़ें.  साथ ही उन सोशल मीडिया समूहों से दूर रहने को कहा गया है जिनके सदस्यों की पहचान सत्यापित न हो. भारतीय सेना ने यह कदम उन खुफिया रिपोर्टों के बाद उठाया गया है, जिसमें कहा गया था कि विदेशी खुफिया एजेंसियां सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए भारतीय सेना की जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास कर रही है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा, यह सेना के दिशानिर्देशों के अनुरूप एक एहतियाती कदम है, जो सेना समय-समय पर जारी करती है. यह नये समय की सुरक्षा की जरूरत है, जिसे सेंसरशिप कहना सही नहीं होगा.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सेना ने सुरक्षा कारणों का हवाला देकर पिछले माह यह दिशानिर्देश जारी किया था. इसमें  सभी जवानों और अधिकारियों से उन वॉट्सऐप और सोशल मीडिया समूहों से दूर रहने   को कहा गया कि जो सत्यापित नहीं हो और जिनमें सेना का कोई सेवारत अधिकारी नहीं हो.

Sport House

इसे भी पढ़ेंः सोम, मंगल के बाद बुधवार को भी कर्नाटक मुद्दा लोकसभा में छाया रहा, कांग्रेस सहित विपक्षी दलों का वाकआउट

सेना से जुड़े सदस्यों के परिजन  कोई भी जानकारी साझा न करें

Related Posts

 महाराष्‍ट्र : सरकार के 100 दिन पूरे होने पर उद्धव ठाकरे #Ayodhya जायेंगे , राहुल गांधी को भी चलने का न्‍योता  

सचिन सावंत के अनुसार कांग्रेस की पूरी इच्‍छा है कि अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण हो. 1989 में जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे तब उन्‍होंने अपना इरादा स्‍पष्‍ट कर दिया था. इसके बाद पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में लटक गया और अब सुप्रीम कोर्ट ने मामले का निस्‍तारण कर दिया है.

इस क्रम में सेना से जुड़े सदस्यों के परिजनों से भी सोशल मीडिया पर सेवारत अधिकारियों के बारे में कोई भी जानकारी साझा न करने का निर्देश दिया है.  कहा है कि सैन्य अधिकारी सोशल मीडिया पर सीमित पोस्ट ही करें , जिसमें सामान्य पूछताछ और सहायता संबंधी सवाल ही हो.  लोकेशन से जुड़े सवालों के लिए अधिकारियों को सैन्य दूरसंचार सेवाओं का इस्तेमाल करने की सलाह ली गयी है. द हिन्दू के अनुसार एक स्रोत ने बताया कि मोटे तौर पर यह निर्देश था कि वॉट्सऐप के ओपन-एंड ग्रुप का हिस्सा न बनें, केवल उन ग्रुप्स में रहें जहां उसमें शामिल लोगों की पहचान जाहिर हो.

जान लें कि जून में यूपी पुलिस ने कथित तौर पर बॉट के जरिए 100 से अधिक सैन्य अधिकारियों के कंप्यूटर सिस्टम हैक करने के पाकिस्तान के जासूसी एजेंटों के प्रयास का खुलासा किया था. एक अन्य अधिकारी ने इस कदम का उद्देश्य आलोचनाओं को रोकना बताया है.  उन्होंने कहा, यहां स्पष्ट असंतोष है,  जिसके बारे में सत्ता को लगता है कि इसे पूर्व कर्मचारियों द्वारा बढ़ावा दिया जाता है. ऐसे ग्रुप में रिटायर्ड अधिकारी अक्सर ज्यादा मुखर रहते हैं लेकिन फिर भी यह सच है कि हम हमेशा से एक परिवार की तरह रहे हैं.

Mayfair 2-1-2020
इसे भी पढ़ेंः   अल कायदा प्रमुख जवाहिरी ने आतंकवादियों को कश्मीर में भारतीय सेनाओं पर हमले कर जिहाद जारी रखने को कहा
SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like