न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मतदान बाद ईवीएम की सुरक्षा हर हाल में सशस्त्र पुलिस बल करेंगे : चुनाव आयोग

विधानसभा या लोकसभा के चुनाव में निर्वाचन प्रक्रिया पूरी होने तक ईवीएम (EVM) और वीवीपेट (VVPAT) मशीनों के भंडारण केंद्रों की सुरक्षा में सिर्फ और सिर्फ सशस्त्र पुलिस बलों की तैनाती सुनिश्चित करने का आदेश जारी

321

 NewDelhi : चुनाव आयोग ने एक अहम फैसला लेते हुए विधानसभा या लोकसभा के चुनाव में निर्वाचन प्रक्रिया पूरी होने तक ईवीएम (EVM) और वीवीपेट (VVPAT) मशीनों के भंडारण केंद्रों की सुरक्षा में सिर्फ और सिर्फ सशस्त्र पुलिस बलों की तैनाती सुनिश्चित करने का आदेश जारी किया है. बता दें कि इस साल के अंत में राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव तथा अगले साल लोकसभा चुनाव होंगे. इसी के मद्देनजर चुनाव आयोग द्वारा निर्वाचन प्रक्रिया को दुरुस्त बनाने की कवायद शुरू कर दी है.

आयोग ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य निर्चाचन अधिकारियों को निर्देश जारी कर स्पष्ट रूप से कहा है कि   ईवीएम के भंडारण केंद्र की सुरक्षा में निजी सुरक्षा एजेंसियों के गार्ड, सिविल डिफेंस, गैरपुलिस सेवा के सुरक्षा कर्मियों और वॉलनटिअर आदि की तैनाती नहीं की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः मनगढ़ंत है पत्र और अपराधी बताने की साजिश: सुधा भारद्वाज

 

hosp3

किसी भी परिस्थिति में सिर्फ सशस्त्र पुलिस बल के जवान ही तैनात होंगे

जान लें कि आयोग ने चुनाव से पूर्व ईवीएम की प्रारंभिक चरण की जांच (एफएलसी) और सुरक्षा से जुड़े इंतजामों को लेकर पिछले साल 30 अगस्त को जारी विस्तृत दिशानिर्देशों में इस स्पष्टीकरण को शामिल कर 29 अगस्त को आदेश जारी किया. आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार पिछले आदेश में ईवीएम के भंडारण केंद्र (वेयर हाउस) और स्ट्रांग रूम में राज्य सशस्त्र पुलिस बल के जवानों की हर पल निगरानी सुनिश्चित करने की बात कही गयी थी.  ताजा आदेश में निजी सुरक्षा एजेंसियों के सुरक्षा गार्ड या सिविल डिफेंस आदि के गार्ड की तैनाती नहीं करने का स्पष्टीकरण जोड़ कर आयोग ने साफ कर दिया है कि इस काम में किसी भी परिस्थिति में सिर्फ सशस्त्र पुलिस बल के जवान ही तैनात होंगे.

लोकतंत्र में सबको बोलने की आजादी, पर देश तोड़ने की नहीं  : राजनाथ  सिंंह

अपवाद की स्थिति में होमगार्ड के जवानों का इस्तेमाल किया जा सकेगा

इससे पहले भी ईवीएम, वीवीपेट की सुरक्षा में सशस्त्र पुलिस बलों को ही तैनात किया जाता रहा है. इस बारे में किसी भी प्रकार के भ्रम की गुंजाइश न हो, इसके लिए ताजा निर्देश में  स्पष्टीकरण जारी किया गया है. इस क्रम में बता दें कि  आयोग ने  अपने आदेश में यह छूट जरूर दी है कि नियमित पुलिस बल के जवानों की तैनाती नहीं हो सकने जैसी अपवाद की स्थिति में होमगार्ड के जवानों का इस्तेमाल किया जा सकेगा. आयोग ने सभी मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को भंडार गृहों में वीवीपेट युक्त ईवीएम की 24 घंटे पुलिस सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए एफएलसी से लेकर चुनाव प्रक्रिया पूरी होने तक सीसीटीवी कैमरों से रिकॉर्डिंग करने के स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं.

इसे भी पढ़ें: भाजपा कार्यकर्ता अपनी ही सरकार से हैं नाराज, Facebook पर कर रहे आलोचना   

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: