Court NewsLead NewsNational

तीन महिलाओं समेत 9 जजों को दी मंजूरी, जस्टिस नागरत्ना बन सकती हैं पहली महिला CJI

नौ नामों को राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेजा गया

New Delhi : केंद्र ने शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों के रूप में नियुक्ति के लिए तीन महिला न्यायाधीशों सहित सुप्रीम कोर्ट कालेजियम द्वारा अनुशंसित सभी 9 नामों को मंजूरी दे दी है. मामले पर जानकारी रखने वालों के मुताबिक, नामों को राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेजा गया है.

पिछले हफ्ते, सुप्रीम कोर्ट कालेजियम, जिसकी अध्यक्षता मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमण कर रहे हैं और इसमें जस्टिस यू.यू. ललित, ए.एम. खानविलकर, डी.वाई. चंद्रचूड़ और एल. नागेश्वर राव ने नौ नामों की सिफारिश की थी, जिनमें आठ उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और शीर्ष अदालत में पदोन्नति के लिए एक वरिष्ठ अधिवक्ता शामिल थे.

advt

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : तालिबान का पत्रकारों पर कहर जारी, काबुल में टोलो न्यूज के जर्नलिस्ट को पीट-पीट कर मार डाला

नागरत्ना के पिता जस्टिस ई.एस. वेंकटरमैया रह चुके हैं सीजेआई

कर्नाटक उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति बीवी नागरत्ना भारत की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश बनने की कतार में पहले नंबर हैं. जस्टिस नागरत्ना के पिता जस्टिस ई.एस. वेंकटरमैया 1989 में कुछ महीनों के लिए सीजेआई रहे थे.

इसे भी पढ़ें :छेड़छाड़ से तंग आकर नाबालिग ने दी जान, सुसाइड नोट में लिखा- ‘पापा मेरी मौत का बदला जरूर लेना’

शीर्ष अदालत में 35 सीटों में 10 हैं रिक्त

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा 18 अगस्त को सेवानिवृत्त हुए, जिस कारण शीर्ष अदालत में 35 की स्वीकृत सीटों में 10 न्यायमूर्तियों की जगह भरी जानी है. गौरतलब है कि 19 मार्च 2019 को तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई के सेवानिवृत्त होने के बाद से कोई नियुक्ति नहीं की गई है. वहीं, अब नौ जजों के शपथ लेने के बाद शीर्ष अदालत के पास सिर्फ एक पद रह जाएगा.

इसे भी पढ़ें :नीलकंठ सिंह मुंडा का नाम नेता प्रतिपक्ष के लिए आगे करने और शराब नीति पर बंटी बीजेपी, केंद्रीय नेतृत्व ने चेताया

ये हैं तीन महिला न्यायाधीश

अधिक जानकारी रखने वाले लोगों के अनुसार, न्यायमूर्ति नागरत्ना के अलावा, नियुक्ति के लिए चुनी गई दो अन्य महिला न्यायाधीशों में तेलंगाना उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति हिमा कोहली और गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश बेला त्रिवेदी हैं.
वरिष्ठ अधिवक्ता पी.एस. पीठ में सीधी नियुक्ति के लिए नरसिम्हा कालेजियम की पसंद हैं. नरसिम्हा की सिफारिश न्यायमूर्ति रोहिंटन एफ. नरीमन की सेवानिवृत्ति के बाद आई है, जो बार से सीधे नियुक्त होने वाले पांचवें वकील थे. न्यायमूर्ति नरीमन 12 अगस्त को सेवानिवृत्त हुए थे.

इसे भी पढ़ें :Big Deal: Mbappe को 1400 करोड़ का ऑफर, रियल मैड्रिड ने PSG को भेजा प्रस्ताव, देखें स्टार फुटबॉलर के स्किल का VIDEO

इन नामों को मिली है मंजूरी

कालेजियम द्वारा अंतिम रूप दिए गए अन्य नाम हैं, ‘न्यायमूर्ति अभय श्रीनिवास ओका (कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), विक्रम नाथ (गुजरात उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), जितेंद्र कुमार माहेश्वरी (सिक्किम उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), सीटी रवि कुमार (केरल उच्च न्यायालय में न्यायाधीश) और एमएम सुंदरश (केरल उच्च न्यायालय में एक न्यायाधीश भी) के हैं.’
यह संभवत: पहली बार होगा जब कालेजियम द्वारा नौ न्यायाधीशों की पदोन्नति के लिए सिफारिश की गई है और केंद्र ने सभी नामों को मंजूरी दे दी है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड की जेलों में बंद कैदियों में सबसे ज्यादा एसटी-एससी

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: