Khas-KhabarRanchi

झारखंड बनने के बाद नियुक्त डीएसपी को आइपीएस कैडर में प्रोन्नत करने की तैयारी

Saurav Singh

Ranchi: झारखंड बनने के बाद नियुक्त डीएसपी को आइपीएस कैडर में प्रोन्नत करने की तैयारी है. इसको लेकर पुलिस मुख्यालय के द्वारा तैयारियां शुरू कर दी गई हैं. मिली जानकारी के अनुसार, 18 डीएसपी को आइपीएस कैडर में प्रोन्नति दी जानी है.

advt

इसके लिए झारखंड पुलिस मुख्यालय के द्वारा आइपीएस कैडर के पोस्ट से तीन गुणा अधिक यानी 54 अधिकारियों को चुना गया है. इसके बाद इन सभी अधिकारियों का नाम यूपीएससी को भेजा जाएगा. बता दें कि झारखंड गठन के बाद बिहार से आये डीएसपी रैंक के पांच अफसरों को 2017 में प्रमोशन दिया गया था.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaUpdate: 24 घंटे में 5200 से अधिक नये मरीज, देश में संक्रमितों का आंकड़ा 96 हजार के पार

पुलिस मुख्यालय ने शुरू की तैयारी

मिली जानकारी के अनुसार, स्टेट पुलिस सर्विस के अधिकारियों को आइपीएस कैडर में प्रोन्नति दिए जाने को लेकर पुलिस मुख्यालय ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है. हालांकि लॉकडाउन की वजह से अभी यह प्रक्रिया धीमी हो गई है. जानकारी के अनुसार, झारखंड पुलिस मुख्यालय द्वारा 18 आइपीएस रैंक पद के लिए 54 स्टेट पुलिस अधिकारियों के नाम चुने गये.

इन सभी अधिकारियों से उनका बायो डाटा, संपत्ति विवरण सहित कई अन्य कागजात की मांग की गई है. इसके बाद इन सभी अधिकारियों की लिस्ट पुलिस मुख्यालय के द्वारा यूपीएससी को भेजी जाएगी. इसके बाद जो अधिकारी योग्य होंगे उन्हें आइपीएस कैडर में प्रोन्नति दी जाएगी. हालांकि लॉकडाउन की वजह से यह प्रक्रिया धीमी हो गई है.

इसे भी पढ़ेंःऔरैया हादसाः शवों के साथ ट्रक में घायल मजदूरों को यूपी सरकार ने भेजा, झारखंड सीएम के ट्वीट के बाद हरकत में आया प्रशासन

आठ साल की सेवा पूरी करने की भी है अनिवार्यता

राज्य पुलिस सेवा से आइपीएस कैडर में प्रोन्नति के लिए उसी डीएसपी का नाम यूपीएससी को भेजा जा सकता है, जिन्होंने बतौर डीएसपी कम-से-कम आठ साल की सेवा पूरी कर ली हो.  बता दें कि झारखंड राज्य का गठन होने के बाद से स्टेट पुलिस सर्विस में बहाल हुए डीएसपी रैंक के किसी भी अधिकारी को अब तक किसी  भी रैंक में प्रमोशन नहीं दिया गया है.

इस कारण सीनियर डीएसपी और एडिशनल एसपी के रैंक में पद रिक्त हैं. रिक्त पदों को भरने के लिये पिछली सरकार ने केंद्रीय बलों से अधिकारियों को झारखंड लाने की तैयारी की थी. जिससे राज्य के अधिकारियों में नाराजगी थी. गौरतलब है कि राज्य में प्रमोशन कोटे से भरे जाने वाले एक दर्जन से ज्यादा पद खाली हैं.

इसे भी पढ़ेंःमहाराष्ट्रः 24 घंटे में कोविड-19 के 2347 नये मरीज, संक्रमण का टूटा रिकॉड, आंकड़ा 33 हजार के पार

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: