न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिंग रोड निर्माण में लगी एपीसीओ कंपनी के गार्ड की संदेहास्पद स्थिति में मौत, पुलिस की जांच जारी  

सत्येंद्र की मौत के बाद रिंग रोड का काम कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि पुलिस की सुरक्षा के बीच सत्येंद्र की मौत खुद में कई सवाल खड़े करती है.

137

Ranchi : रिंग रोड का निर्माण करवा रही एपीसीओ कंपनी के गार्ड सत्येंद्र यादव गार्ड की संदेहास्पद स्थिति में जलकर कर मौत हो गई. वहीं गार्ड की मौत के बाद रिंग रोड का निर्माण करवा रही एपीसीओ कंपनी के कर्मचारियों के बीच दहशत का माहौल कायम है. सत्येंद्र की मौत के बाद रिंग रोड का काम कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि पुलिस की सुरक्षा के बीच सत्येंद्र की मौत खुद में कई सवाल खड़े करती है. साथ ही कर्मचारियों ने सुरक्षा व्यवस्था पर भी कई सवाल खड़े किये और कहा कि ऐसे में यहां काम करना बेहद बहुत मुश्किल है.

क्या है मामला

मिली जानकारी के मुताबिक, रिंग रोड का निर्माण करवा रही कंपनी एपीसीओ में गार्ड का काम करने वाले सत्येंद्र यादव की बीती रात जलकर मौत हो गयी. गया के रहने वाले सत्येंद्र की मौत पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. चूंकि जलने के बाद कंपनी में ही तैनात पुलिस के जवान ने सत्येंद्र यादव को रिम्स पहुंचाया, लेकुन तब तक सत्येंद्र की मौत हो चुकी थी. जबकि इस बारे में कंपनी में कार्यरत  कर्मचारियों का कहना है कि सत्येंद्र यादव को अज्ञात लोगों के द्वारा जलाकर मारा गया है. फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है.

 यादव की हुई है हत्या

कंपनी के कर्मचारियों का कहना है कि सत्येंद्र यादव की जलकर मौत नहीं हुई है. बल्कि पहले   अज्ञात लोगों के द्वारा गार्ड की हत्या कर दी गई. फिर शव को जला दिया गया. साथ ही कर्मचारियों ने कहा कि हम लोगों का काम करना मुश्किल साबित हो रहा है. कर्मचारियों ने सवाल खड़े किये कि पुलिस की जब टीम यहां रात में तैनात थी, तो ऐसे में जलाने की घटना सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े करता है.

एक जनवरी की शाम भी कंपनी की साइट पर हुआ था हमला

कांके थाना क्षेत्र के होचर रिंग रोड के पास एपीसीओ कंपनी के साइट पर 40 से ज्यादा अज्ञात लोगों ने अचानक हमला कर दिया था. अज्ञात लोगों के द्वारा किए गए हमले ने जहां रिंग रोड का निर्माण कार्य करवा रहे कंपनी के कर्मचारियों के साथ मारपीट की गई थी. साथ ही निर्माण कार्य में लगे 25 से ज्यादा वाहनों में तोड़फोड़ भी अज्ञात लोगों के द्वारा किया गया था.

इसे भी पढ़ें – चार साल बीते तो रघुवर दास ने सुनाया फिर वही फरमान – अधिकारी गांव में गुजारें दो–दो दिन 

इसे भी पढ़ें – आजादी के बाद पहली बार गांव में बनी पक्की सड़क, ग्रामीणों ने गुणवत्ता पर खड़े किये सवाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: