West Bengal

कोलकाता के 20 फीसदी लोगों में विकसित हो रहा है एंटीबॉडी, जानिए यह है क्या

Kolkata: बंगाल में जिस तेजी से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, उसी तेजी से यहां के लोगों के शरीर में एंटीबॉडी भी विकसित हो रहा है. कोलकाता तथा हावड़ा के 20 फीसद लोगों में एंटीबॉडी मिला है जो कोरोनावायरस के खिलाफ जंग में सकारात्मक संदेश दे रहा है.

देश की एक निजी लैब की रिपोर्ट के अनुसार महानगर में 20 फीसद लोगों के शरीर में एंटीबॉडी बन चुका है. ये आंकड़ा 2-3 फीसदी आगे-पीछे हो सकता है. लैब के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक संक्रमण छोटे शहरों में कम है, बड़े शहरों में ज्यादा है. जहां संक्रमण ज्यादा है वहां मौते भी ज्यादा हैं. वहीं एंटीबॉडी भी ज्यादा है.

भारत की बड़ी लैब थायरोकेयर की रिपोर्ट के अनुसार 300 शहरों से मिले 75 हजार सैंपल के आधार पर माना जा रहा है कि 15 फीसदी भारतीयों के शरीर में एंटीबॉडी बन चुका है. 15 फीसदी यानी 18 करोड़ भारतीयों के शरीर में कोरोना से लड़ने वाला एंटीबॉडी बन चुका है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

जिन शहरों में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले आये हैं, वहां से सबसे ज्यादा एंटीबॉडी मिले. मुंबई से लिये गये सैंपल में 27 फीसदी लोग एंटीबॉडी पॉजिटिव मिले. दिल्ली में 34 फीसदी, पटना में 18 फीसदी, बेंगलुरु में 15 फीसदी, हैदराबाद में 21 फीसदी, चेन्नई में 30 फीसदी, कोलकाता में 20 फीसदी, अहमदाबाद में 18 फीसदी लोगों के शरीर में एंटीबॉडी मिले.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – भारी आर्थिक संकट में पहुंचा रेलवे, रिटायर्ड अफसरों-कर्मियों को पेंशन देने के लिए भी पैसे नहीं

क्या है होता है एंटीबॉडी?

किसी शख्स को जब कोरोना हो जाता है तो उसके शरीर में वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी पैदा हो जाते हैं. कोरोना वायरस अलग-अलग लोगों में अलग-अलग तरह के लक्षण उनकी रोग प्रतिकारक क्षमता के मुताबिक दिखाता है.

एंटीबॉडी एक सिक्योरिटी गार्ड की तरह होता है. शरीर के कोरोना वायरस के आते ही सिक्योरिटी गार्ड एक साथ जमा हो जाता है और वायरस को हराकर उसे शरीर से बाहर निकाल देता है. अगर एंटीबॉडी नजर आते हैं तो रिपोर्ट पॉजिटिव आती है यानी कि शख्स को भूतकाल में कोरोना हो चुका है.

अगर एंटीबॉडी नहीं है तो रिपोर्ट नेगेटिव आती है, जिसका मतलब है कि कोरोना नहीं हुआ है. कुछेक मामलों में ये भी होता है कि सैंपल देने वाले शख्स को कोरोना हो चुका है लेकिन उसके शरीर में एंटीबॉडी नहीं बनते. ऐसे मामले बेहद कम होते हैं.

इसे भी पढ़ें – 25 जुलाई को 244 नये कोरोना संक्रमित मिले, 7 मौतें, कुल 7871 पॉजिटिव केस

9 Comments

  1. Does your website have a contact page? I’m having
    a tough time locating it but, I’d like to shoot you an email.
    I’ve got some suggestions for your blog you might be interested
    in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it grow over time.

  2. Howdy this is kinda of off topic but I was wondering if
    blogs use WYSIWYG editors or if you have to
    manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have
    no coding skills so I wanted to get guidance from someone with experience.
    Any help would be greatly appreciated! cheap flights 3aN8IMa

  3. I was curious if you ever considered changing the layout of
    your site? Its very well written; I love what youve got to say.
    But maybe you could a little more in the way of content
    so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for
    only having 1 or 2 images. Maybe you could space it out better?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button