HEALTHNational

मुंबई के झुग्गी क्षेत्र में रहने वाले 57% लोगों में बन चुकी हैं एंटीबॉडी: स्टडी

विज्ञापन
Advertisement

Mumbai: मुंबई में एक सीरो-सर्विलांस सर्वेक्षण से जानकारी मिली है कि यहां तीन निकाय वार्डों के झुग्गी क्षेत्र में रहनेवाली 57 फीसदी आबादी और झुग्गी इलाकों से इतर रहनेवाले 16 फीसदी लोगों के शरीर में एंटीबॉडी बन गयी हैं. इससे संकेत मिलते हैं कि कोरोना वायरस के आधिकारिक आंकड़ों से कहीं अधिक लोग पहले ही इससे संक्रमित हो चुके हैं.

इसे भी पढ़ें- सुशांत सुसाइड केसः एक्टर रिया चक्रवर्ती समेत 6 के खिलाफ FIR, 15 करोड़ की धोखाधड़ी का भी आरोप

3 जून को शुरू हुआ था सीरो-सर्विलांस

सीरो-सर्विलांस तीन जून को शुरू हुआ था और जुलाई माह के पहले पंद्रह दिन में तीन निकाय वार्डों आर नॉर्थ, एम-वेस्ट, एफ-नॉर्थ के झुग्गी बस्ती में रहने वालों और झुग्गी से इतर इलाकों में रहने वालों के 6,936 नमूने लिए गये. इसमें पता चला कि शहर में बिना लक्षण वाले संक्रमण से पीड़ित लोगों की संख्या काफी ज्यादा है.

advt

बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने मंगलवार को बताया कि अध्ययन में खुलासा हुआ है कि इन तीन निकाय वार्डों की झुग्गी में रहनेवाली 57 फीसदी आबादी और गैर झुग्गी क्षेत्रों की 16 फीसदी आबादी के शरीर में एंटबॉडी बन गए हैं. बीएमसी ने एक रिलीज में बताया कि यह परिणाम हर्ड इम्युनिटी के बारे में और अधिक जानकारी हासिल करने में महत्वपूर्ण है.

इसे भी पढ़ें- वायुसेना प्रमुख भदौरिया की उपस्थिति में आज अंबाला एयरबेस पहुंचेंगे 5 राफेल विमान

संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर काफी कम

बीएमसी ने कहा कि इस संबंध में अन्य सर्वेक्षण होगा जो कि वायरस के प्रसार और हर्ड इम्युनिटी (बड़ी आबादी में वायरस के प्रसार के बाद प्रतिरोधक क्षमता विकसित होना) पर प्रकाश डालेगा. यह सीरो सर्विलांस नीति आयोग, बीएमसी और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल सिसर्च ने संयुक्त रूप से किया है.

निकाय अधिकारियों का दावा है कि सीरो सर्विलांस का यह परिणाम इस ओर इशारा करता है कि बिना लक्षण वाले संक्रमण की दर अन्य सभी प्रकार के संक्रमण से अनुपात में ज्यादा है. बीएमसी ने कहा कि हालांकि जनसंख्या में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में संक्रमण दर आंशिक रूप से ज्यादा है.

बीएमसी ने दावा किया कि झुग्गी क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमण के पीछे यहां जनसंख्या घनत्व अधिक होना एक वजह हो सकती है क्योंकि यहां शौचालय और पानी लेने वाले स्थान साझे हैं. नगर निकाय ने कहा कि सीरो सर्विलांस सर्वेक्षण में पता चलता है कि संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर काफी कम है और 0.5-0.10 फीसदी की रेंज में है.

इसे भी पढ़ें- प्रदूषित हवा के कारण औसतन 5 साल तक कम हो रही भारत के लोगों की उम्रः स्टडी

advt
Advertisement

4 Comments

  1. Very nice post. I just stumbled upon your blog and
    wished to say that I have really enjoyed browsing your blog
    posts. After all I will be subscribing to your feed and I hope you write again very soon!

  2. hello there and thank you for your information – I’ve definitely picked up something new from
    right here. I did however expertise some technical points using this web site,
    as I experienced to reload the site lots of times previous to I could
    get it to load correctly. I had been wondering if your web hosting is OK?
    Not that I am complaining, but slow loading instances times
    will very frequently affect your placement in google and can damage your high quality score if advertising and marketing with Adwords.
    Anyway I am adding this RSS to my e-mail and can look out
    for a lot more of your respective intriguing content.
    Make sure you update this again very soon.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: