न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सदर अस्पताल में सात दिनों से एंटी रैबीज इंजेक्शन नहीं, 55 रेफर

स्वास्थ्य अधिकारियों की लापरवाही उजागर

269

Chatra: सदर अस्पताल में पिछले सात दिनों से एंटी रैबीज वैक्सीन उपलब्ध नहीं है. जिसके कारण रोजाना दर्जनों मरीज बिना सुई लिए अस्पताल से वापस लौट रहे हैं. हालांकि कुछ लोग निजी स्तर पर मंहगी सुई खरीद कर अपना इलाज तो करा रहे हैं, लेकिन गरीब परिवारों के पास पैसा नहीं रहने का कारण वे प्रतिदिन अस्पताल का चक्कर लगाने को विवश हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि सिमरिया रेफरल अस्पताल के अलावा किसी भी स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज वैक्सीन नहीं है.

इसे भी पढ़ें – थाना प्रभारी और एएसआइ के बीच हुई मारपीट, एएसआइ ने चलायी गोली, नौ साल के बच्चे को लगी

दवाखाने के बाहर लगा दी पर्ची

इधर स्वास्थ्य स्वास्थ्य कर्मियों से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि रैबीज का इंजेक्शन खत्म होने से पूर्व स्वास्थ्य अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई थी. लेकिन अधिकारियों ने दवा उपलब्ध नहीं करायी. थक-हार कर कर्मियों ने दवाखाने के बाहर एक पर्ची में कुत्ता काटने की सुई 16 मार्च से नहीं है, लिख कर चिपका दिया. सदर अस्पताल व स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रैबीज वैक्सीन की नहीं होने की जानकारी सिविल सर्जन को है. बावजूद अबतक इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराया गया है. ऐसे में कुत्ता काटने से पीड़ित हुए लोग हजारीबाग, गया व रांची में अपना-अपना उपचार कराने को मजबूर हैं.

इसे भी पढ़ें – केंद्र का बड़ा फैसला, यासीन मलिक के जेकेएलएफ पर लगाया प्रतिबंध

विभाग को लिखा गया है पत्रः सिविल सर्जन

सिविल सर्जन डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि विभाग को अनुरोध पत्र लिखा गया है, दो-तीन दिनों के भीतर प्रर्याप्त मात्रा में दवा उपलब्ध हो जाएगी. बताया कि अस्पताल आनेवाले मरीजों को इंजेक्शन लेने के लिए सिमरिया रेफर किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – वाम दल आपसी सहमति बनायें, एक सीट छोड़ने पर विचार करेगी कांग्रेसः सुबोधकांत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: