न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अपनी शख्सियत के कारण जाने जाते हैं अंसुमन भगत

लेकिन अंसुमन भगत ने मुंबई में वो मुकाम हासिल किया कि आज इंडस्ट्री के लोग अंसुमन  भगत का नाम जानते हैं.

1,831

Ranchi : देश के कई शहरों से मुंबई आने वाले लोग स्ट्रगल तो बहुत करते हैं, पर वह मुकाम हासिल नहीं कर पाते हैं जो वह चाहते हैं. लेकिन अंसुमन भगत ने मुंबई में वो मुकाम हासिल किया कि आज इंडस्ट्री के लोग अंसुमन  भगत का नाम जानते हैं. अंसुमन की जिंदगी को बारीकी से समझने की कोशिश करें तो हमें यह समझ आयेगा कि सफलता की राह पर चलते समय असफल राहों का भी सामना करना पड़ता है. उस प्रक्रिया में कई लोग असफल साबित होते हैं. अंसुमन हर उस शख्स के लिए उदाहरण हैं, जो अपने मुकाम तक पहुंचना चाहते हैं और अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना चाहते हैं.

mi banner add

अंसुमन  किसी बड़े घर से नाता नहीं रखते और ना ही उनके पिता कोई उद्योगपति हैं. अंशुमन का परिवार  मध्यम वर्गीय परिवार है, जैसा कि हर आम इंसान की जिंदगी में होता है, वैसे ही अंशुमन की माताजी हाउसवाइफ है और पिता का छोटा मोटा व्यापार चल रहा है.

इसे भी पढ़ेंःसालों से अपने ही घर में कैद भाई-बहन को पुलिस ने कराया आजाद, किरायेदार डॉक्टर पर आरोप

अंशुमन ने अपनी पढ़ाई समाप्त कर मुंबई जाने का फैसला किया

अंसुमन  ने अपनी पढ़ाई बीएमएम समाप्त कर मुंबई जाने का फैसला किया. मुंबई आकर अंसुमन ने कठिनाइयों का सामना करते हुए कास्टिंग की शुरुआत की और कास्टिंग में अपनी अच्छी छाप छोड़ी. अंसुमन को लेखन में भी काफी रुचि थी और उन्होंने लेखन की दुनिया में भी प्रवेश किया और अपनी बुक आपकी खुद की सोच लोगों के सामने रखने जा रहे हैं. यह बुक जल्द ही प्रकाशित होने वाली है. आपकी खुद की सोच आने से पहले ही इतनी प्रचलित हो चुकी है कि लोग इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. अंशुमन ऐसे सुविचार लोगों के सामने रखते हैं जिसे पढ़कर लोगों के अंदर कुछ करने की इच्छा होती है.

Related Posts

बेरमो : खेतको में दामोदर नदी के घाट से बालू का अवैध उठाव जारी

प्रतिदिन पचासो की संख्या में टैक्टरों से बालू का उठाव किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः राज्य में बाघों की संख्या बन गयी है पहेली, वन विभाग को पता ही नहीं प्रदेश में कितने बाघ हैं

अंसुमन ने काफी कम आयु में अपना नाम रोशन कर दिया

अंसुमन  ने काफी कम आयु में ही अपना नाम रोशन कर दिया है. आज बड़े-बड़े लोग इस मुकाम तक पहुंचने के लिए अपनी सारी उम्र गंवा देते हैं. अंसुमन ने ना केवल अपने आप को एक मुकाम तक पहुंचाया, बल्कि अपने परिवार वालों की भी काफी काफी मदद की. अंसुमन का मकसद केवल पैसे कमाना नहीं है. अपने आप को लोगों के सामने एक सफल व्यक्ति के रूप में दिखाना उनका मकसद था. वह कहते हैं कि अगर किसी चीज की तमन्ना दिल से की जाये तो सारी कायनात उसे पूरी करने में जुट जाती हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: