West Bengal

बंगाल में एक और व्यक्ति हुआ कोरोना से संक्रमित, संख्या बढ़कर हुई 10, ममता ने मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र

Kolkata :  पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. अब इसका संक्रमण जिलों में भी फैलने लगा है. दक्षिण 24 परगना के नयाबाद में रहने वाले 66 साल के एक अधेड़ के शरीर में संक्रमण की पुष्टि हुई है. वह फिलहाल कोलकाता के पीयरलेस अस्पताल में भर्ती हैं.

राज्य स्वास्थ्य विभाग की ओर से गुरुवार को इस बारे में जानकारी मिली. बताया गया है कि 23 मार्च से वह अस्पताल में भर्ती हैं. उन्हें सर्दी खांसी और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. इसके बाद उनके खून के नमूने को कोरोना संक्रमण से संबंधित जांच के लिए बेलियाघाटा नाइसेड अस्पताल में बुधवार को भेजा गया था.

advt

इसे भी पढ़ेंः विधायक विनोद सिंह विधायक फंड से बाहर फंसे श्रमिकों की आर्थिक मदद करेंगे, कहा- दिल्ली, मुंबई और दूसरे शहरों में प्रवासी कंट्रोल रूम खोले सरकार

इस इलाके में कैसे फैला कोरोना

देर रात इसकी रिपोर्ट आई है जिसमें संक्रमण की पुष्टि हुई है. अस्पताल ने उन्हें विशेष आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर इलाज शुरू कर दिया है. रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को भेजी गयी है. विभाग के अधिकारी गुरुवार को अस्पताल में पहुंचकर चिकित्सकों से बात करेंगे. इस अधेड़ उम्र के व्यक्ति के शरीर में संक्रमण को लेकर राज्य प्रशासन चिंता में पड़ गया है. खास बात यह है कि यह व्यक्ति ना तो विदेश गए थे और ना ही किसी दूसरे राज्य में.

नयाबाद में जहां इनका घर है वहां थोड़ी दूर पर ही राज्य सचिवालय की उस डब्ल्यूबीसीएस अधिकारी का भी घर है जिसका बेटा सबसे पहले कोरोना संक्रमित पाया गया था. वह लंदन से लौटा था और कोलकाता आकर यहां वहां घूम फिर रहा था.

adv

वहीं से संक्रमण फैला है या नहीं, इसकी जांच की जा रही है. यह भी पता चला है कि कुछ दिन पहले यह व्यक्ति मेदिनीपुर के एक शादी के कार्यक्रम में गए थे. वहां से भी संक्रमण फैला हो सकता है क्योंकि उस शादी में भी विदेश से लौटे कुछ लोग आए थे और वृद्ध का संपर्क उन लोगों से हुआ था. उस शादी में विदेश से लौटे कौन-कौन से लोग आए थे, इस बारे में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी जांच में जुट गए हैं.

उल्लेखनीय है कि फिलहाल कोलकाता के बेलियाघाटा आईडी अस्पताल में कोरोना से संक्रमित आठ लोग भर्ती हैं. कोलकाता के ही आमरी अस्पताल में एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति की मौत पहले ही इस बीमारी के कारण हो चुकी है. इस तरह से पीड़ित लोगों की कुल संख्या 10 हुई है.

ममता ने 18 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा- बंगाल के लोगों की करें मदद  

देश में लॉकडाउन होने से देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे पश्चिम बंगाल के लोगों के संबंध में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 18 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने मुख्यमंत्रियों से बंगाल के लोगों को हर तरह की मदद देने की अपील की है. अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने लिखा है कि बंगाल के कई श्रमिक पूरे देश में हुए लॉकडाउन की वजह से विभिन्न राज्यों में फंस गये हैं और वापस बंगाल नहीं आ पा रहे हैं. आमतौर पर ऐसे श्रमिक 50-100 के समूह में हैं. उन्हें स्थानीय प्रशासन की सहायता से आसानी से चिह्नित किया जा सकता है.

चूंकि बंगाल सरकार का फिलहाल उन तक पहुंचना संभव नहीं है इसलिए उन्हें रहने, खाने और चिकित्सकीय सुविधा मुहैया की जाये. दूसरे राज्यों के लोगों की ऐसी ही देखभाल वह बंगाल में भी कर रही हैं. मुख्यमंत्री ने लिखा है कि इस बाबत उनके मुख्य सचिव संबंधित राज्य के मुख्य सचिव को तथ्य देंगे ताकि संकट की इस घड़ी में मानवीय सहायता पहुंचायी जा सके.

इसे भी पढ़ेंः #CoronavirusLockdown: हजारीबाग के छह होटल आइसोलेशन सेंटर के रूप में होंगे तैयार

इन राज्यों के सीएम को लिखा है पत्र

मुख्यमंत्री ने यह पत्र तमिलनाडु के मुख्यमंत्री इके पलानीस्वामी, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, केरल के सीएम पिनारयी विजयन, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा है. ममता ने सभी से अपील की है कि वहां रहने वाले बंगाल के मजदूरों को हर तरह की मदद की जाए.

उल्लेखनीय है कि बुधवार को कई राज्यों के मजदूरों ने वीडियो जारी किया था. इसमें मूल रूप से केरल का वीडियो वायरल हुआ था जिसमें हजारों मजदूर एक मंदिर के अंदर शरण लिए हुए थे. उनके रहने और खाने की व्यवस्था नहीं थी. बाहर निकलने पर पुलिस पीट रही थी, इसलिए वे काफी परेशान थे.

इसे भी पढ़ेंः #Kolkata: अचानक बाजारों में जा पहुंची मुख्यमंत्री, ईंट लेकर सड़क पर बनाया सुरक्षा घेरा

न्यूज विंग की अपील – देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close