JharkhandRanchi

आरएमएसडब्ल्यू को हटाने का निगम का एक और प्रयास,  टर्मिनेट करने का सरकार को भेजा प्रस्ताव

Ranchi: रांची नगर निगम आरएमएसडब्ल्यू कंपनी को टर्मिनेट करने के प्रयासों में जुट गया है. इस कड़ी में निगम के आयुक्त मनोज कुमार ने शहर के 33 वार्डों में सफाई का कार्य कर रही आरएमएसडब्ल्यू कंपनी को टर्मिनेट करने का प्रस्ताव मंगलवार को राज्य सरकार को भेज दिया है. आठ पन्नों के इस टर्मिनेशन प्रस्ताव पर नगर आयुक्त ने विस्तार से कंपनी की लापरवाही को उजागर किया है. पत्र में उन्होंने लिखा है कि कंपनी को हटाने के प्रस्ताव को गत मार्च की बोर्ड बैठक में भी स्वीकृति दे दी गयी है. इसलिए अब विभाग को इस ओर कोई उचित कदम उठाने की दिशा में कदम उठाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – पर्यावरण से संबंधित अनापत्ति प्रमाणपत्र लेकर हो कार्य: अमित कुमार

पार्षदों के हंगामे के बीच मेयर ने कंपनी को टर्मिनेट करने का दिया था निर्देश

मालूम हो कि गत 9 मार्च को निगम बोर्ड की बैठक में कंपनी को सफाई कार्य से टर्मिनेट करने के मांग को लेकर कई पार्षदों ने जम कर हंगामा किया था. पार्षदों के एक समूह का कहना था कि 33 वार्डों में सफाई कार्य देख रही कंपनी आरएमएसडब्ल्यू अपने कामों में लापरवाही बरत रही है. इन वार्डों में न तो पूरी तरह से कूड़े का उठाव हो रहा है न ही सफाई. पार्षदों के हंगामे को देख मेयर ने उन्हें आश्वस्त किया था कि जल्द ही निगम कंपनी को टर्मिनेट करने का एक प्रस्ताव सरकार को भेजेगा. हालांकि चुनावी आचार संहिता लगने के कारण इस काम में थोड़ा विलंब हुआ था. लेकिन अब आचार संहिता खत्म होने को ज्यादा दिन नहीं बचे हैं तो निगम भी कंपनी को हटाने की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़ें – जैक रिजल्टः साइंस में पाकुड़ के राधेश्याम साहा स्टेट टॉपर, कॉमर्स में रांची की अमीशा कुमारी टॉपर

सरकार को निगम ने बिंदुवार भेजा प्रस्ताव

नगर विकास सचिव अजय कुमार सिंह को भेजे गये प्रस्ताव में नगर आयुक्त ने कंपनी की लापरवाही पर बिंदुवार प्रकाश डाला है. नगर आयुक्त ने लिखा है कि कंपनी ने कभी भी निर्धारित संख्या में सफाई कर्मचारियों को काम पर नहीं लगाया. कंपनी के कर्मचारी भी मनमाने तरीके से हड़ताल पर जा रहे थे. जिसे खत्म कराने में कंपनी की रुचि नहीं दिख रही थी. कंपनी के अधिकारियों से लगातार आग्रह करने के बाद भी कंपनी के कार्यों में कोई सुधार नहीं दिख रहा था. जिससे शहर के लोगों के बीच में निगम की छवि खराब हुई. ऐसे में कंपनी को टर्मिनेट करने की दिशा में कोई उचित पहल की जाये.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीहः 10 करोड़ 33 लाख में हुई 10 शराब दुकानों की नीलामी, लोकल सिंडिकेट के कारोबारी नहीं हुए शामिल  

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: