न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एनोस के खिलाफ ईडी की एक और कार्रवाईः पाकरडांड में 170 डिसमिल जमीन हुई सीज

76

Ranchi: झारखंड के पूर्व मंत्री और कोलेबिरा विधानसभा के पूर्व विधायक एनोस एक्का के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले को लेकर ईडी एक के बाद एक बड़ी कार्रवाई कर रही है. इसी मामले में ईडी ने कार्रवाई करते हुए सोमवार को कोलेबिरा के नवाटोली स्थित मेनन एक्का के नाम से लगभग 77 डिसमिल जमीन को सील कर दिया था.

इसे भी पढ़ेंःडॉ अजय ने कहा- आजसू व जेएमएम की तर्ज पर कांग्रेस करेगी ‘सरकार फेंको यात्रा’

वहीं मंगलवार को ईडी की टीम ने सिमडेगा के पाकरडांड में एनोस एक्का के पैतृक गांव में 170 डिसमिल जमीन को सीज किया गया. और वहीं पाकरडांड में एक और जमीन 2 एकड़ 44 डिसमिल को भी ईडी ने सीज कर लिया है.

दिल्ली और गुड़गांव की संपत्ति सील कर चुकी है ईडी

इससे पहले 26 अक्टूबर को कोलेबिरा के पूर्व विधायक एनोस एक्का के हरियाणा के गुड़गांव और दिल्ली के महरौली स्थित संपत्ति पर ईडी ने बड़ी कारवाई करते हुए एनोस एक्का की तीन संपत्तियों को सील कर लिया था. एनोस एक्का ने अपने अवैध कमाई से हरियाणा के गुड़गांव के सुशांत लोक सेक्टर-सी हाउस नंबर 963 और दिल्ली के महरौली स्थित फार्म हाउस और दिल्ली के हौज खास स्थित 13 एकड़ जमीन जो एनोस की पत्नी मेनन एक्का के नाम पर खरीदी गयी, उसे ईडी सील कर दिया था.

जलपाईगुड़ी स्थित संपत्ति भी ईडी ने की सील

इससे पहले 13 अक्टूबर को एनोस एक्का के पश्चिम बंगाल जलपाईगुड़ी के राजगंज में ईडी की बड़ी कारवाई करते हुए एनोस एक्का की 25 संपत्तियों को ईडी ने सील कर लिया था. इस दौरान ईडी ने एनोस एक्का द्वारा उसकी पत्नी मेनन एक्का के नाम पर खरीदी गयी संपत्तियों को सील किया. पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिला में स्थित एक्का दंपती की 25 संपत्तियां ईडी की टीम ने सील की है.

इसे भी पढ़ेंःचतरा : दैनिक अखबार ‘आज’ के पत्रकार की निर्मम हत्या

रांची में भी ईडी की कार्रवाई

पिछले महीने ईडी की टीम ने राजधानी रांची में एयरपोर्ट स्थित एनोस एक्का की 05 करोड़ रुपये के आवास की सील कर दिया था. ईडी की टीम ने लालपुर में हरिओम टावर के पांचवें तल्ले पर स्थित C1/5 को भी सील कर दिया था. इसके अलावा एक्का की दो और संपत्तियों को सील किया गया.

कोलिबिरा के पूर्व विधायक हैं एनोस एक्का

एनोस एक्का झारखंड के कोलेबिरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे. वह मधु कोड़ा मंत्रिमंडल में मंत्री भी रहें. इसी दौरान आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के गंभीर आरोप उन पर लगे. एनोस एक्का की पत्नी मेनन एक्का को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया है. गौरतलब है कि पूर्व मंत्री एनोस एक्का फिलहाल जेल में बंद हैं. उन्हें सिमडेगा के कोलेबिरा थाना क्षेत्र के लसिया निवासी पारा शिक्षक मनोज कुमार की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा सुनायी गयी है. इस जुर्म के लिए उन पर 65 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. एनोस एक्का को जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश नीरज कुमार श्रीवास्तव की अदालत ने पिछले दिनों सजा सुनायी थी.

इसे भी पढ़ेंःमहाधिवक्ता अजित कुमार ने काले सरदार के भाई की जमीन की जमाबंदी रद्द…

एनोस एक्का ने हाइकोर्ट में दाखिल की थी याचिका

एनोस एक्का ने अपनी संपत्तियों को सील करने की इडी की कार्रवाई पर रोक लगाने के लिए हाइकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. जिसके कारण कई साल तक ईडी की टीम अपनी कार्रवाई नहीं कर पायी थी. कुछ दिन पहले हाइकोर्ट ने इडी की कार्रवाई पर स्टे हटा लिया. जिसके बाद ईडी की टीम ने अपनी कार्रवाई शुरू कर दी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: