JharkhandRanchi

मेयर फिर से हुईं ‘लाल’, अफसरों पर दागे सवाल

विज्ञापन
  • स्पैरो को एक्सटेंशन दिलाने पर अड़ी हैं मैडम

Ranchi  :  राजधानी में होल्डिंग टैक्स वसूली के लिए रांची नगर निगम ने श्री पब्लिकेशन एंड स्टेशनर्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ एग्रीमेंट किया है. इससे नाराज मेयर आशा लकड़ा अब निगम अधिकारियों पर लगातार हमलावर हैं.

मंगलवार को उन्होंने नगर आयुक्त मुकेश कुमार को निर्देश दिया था कि वे अगले तीन दिनों के अंदर श्री पब्लिकेशन के साथ एग्रीमेंट रद्द कर पूर्व की कंपनी स्पेरो स्पॉटेक को कार्य विस्तार दें. अब इसी एग्रीमेंट को लेकर मेयर ने निगम के उप नगर आयुक्त शंकर यादव को शो-कॉज नोटिस भेजा है.

इसे भी पढ़ें – बगैर मास्क वालों से बगैर मास्क वाले ने वसूला जुर्माना, गढ़वा डीटीओ ऑफिस की अजब-गजब कहानी

इन बिंदुओ पर दो दिनों में मांगा जवाब

  • आपके द्वारा बीते शनिवार को श्री पब्लिकेशन के साथ जो एग्रीमेंट किया गया है, वह झारखंड नगरपालिका अधिनियम-2011 की किस धारा के तहत हुआ है?
  • एग्रीमेंट से पहले क्या उन्होंने REP पढ़ा था या नहीं?
  • श्री पब्लिकेशन के साथ एग्रीमेंट करने से पहले उन्होंने संबंधित एजेंसी के दस्तावेजों को देखा था या नहीं?
  • सूडा निदेशक के जारी पत्र में क्या निर्देश दिया गया है. इस संबंध में हाइकोर्ट का जिक्र किया गया है. हाईकोर्ट के निर्देश पर सूडा निदेशक ने क्या कहा है?
  • एग्रीमेंट में एजेंसी को फायदा पहुंचाने के लिए तथ्य के बाहर जाकर कार्य क्यों जोड़ा गया है. साथ ही Tech-5 का दस्तावेज क्यों नहीं जोड़ा गया है?
  • एग्रीमेंट में हाइकोर्ट के आदेश से प्रभावित होने की बात क्यों नहीं की गयी है?
  • किस प्रावधान के तहत उन्हें यह अधिकार मिला है कि नगरपालिका से संबंधित मामलों पर वे स्वयं निर्णय लें?
  • 9 जून के निगम परिषद की बैठक में स्पेरो सॉफ्टेक को कार्य विस्तार देने का निर्णय हुआ था. इसपर क्या कार्रवाई हुई?
  • निगम के जनप्रतिनिधियों का क्या कार्य है?

इसे भी पढ़ें – पूर्वी सिंहभूम: प्रोमोशन लिस्ट में मृत और ट्रांसफर हो चुके शिक्षकों के भी नाम

… तो अधिनियम के खिलाफ माना जायेगा एग्रीमेंट

नोटिस भेज मेयर ने कहा है कि अगर उपनगर आयुक्त तय समय सीमा में कोई जवाब नहीं देते है, तो यह समझा जायेगा कि श्री पब्लिकेशन के साथ किया गया एग्रीमेंट झारखंड नगरपालिका अधिनियम-2011 के खिलाफ है.

इसे भी पढ़ें – विश्वविद्यालय सिर्फ शिक्षण शुल्क लें… इस अर्जी पर सुनवायी से दिल्ली हाई कोर्ट का इनकार

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: