JharkhandLead NewsNEWSRanchi

कोरोना में ड्यूटी कर रहे हैं डॉक्टर्स को एक महीने की एक्स्ट्रा सैलरी देने की घोषणा, यहां तो 5 महीने से पड़े हैं लाले

Ranchi: झारखंड सरकार ने कोरोना में काम कर रहे डॉक्टरों को एक महीने की अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है. इससे डॉक्टर्स और हेल्थ वर्कर्स में खुशी का माहौल है, मगर जान जोखिम में डाल ड्यूटी करने वाले डेंटल कॉलेज के ट्यूटर्स को 5 महीने से सैलरी ही नहीं मिली है. अब तो ट्यूटर्स का धैर्य भी जवाब दे चुका है और वे यही कह रहे हैं कि जो काम किया है उसका ही पेमेंट मिल जाए तो हम धन्य हो जाएंगे.

 

advt

न्यायालय का दरवाजा खटखटाना पड़ा महंगा

 

इन डॉक्टरों का दोष बस इतना है कि इन्होंने रिम्स में कार्य करते रहने के लिए न्यायालय का दरवाजा खटखटाया. न्यायालय ने इनकी बात सुनकर इनका पक्ष लिया. लेकिन रिम्स प्रबंधन को यह नागवार गुजरा और प्रताड़ना शुरू हो गई.5 महीने से सैलरी रोक दी गई है और इसके लिए ट्यूटर्स लगातार उनके दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं. डायरेक्टर ने उन्हें कभी मिलने का समय भी नहीं दिया. कोरोना में लगातार बिना ब्रेक के ड्यूटी लगाई जा रही है.यहां तक कि लगातार आइसीयू में डे नाइट ड्यूटी कर रहे हैं.

 

काम के एवज में पैसे देने में परेशानी

 

रिम्स प्रबंधन ने कोर्ट के जिस स्टेटस कुओ के आदेश को आधार बना कर इन ट्यूटरों को काम पर लगाया है. उसी आदेश में निहित काम के एवज़ में पैसे देने में रिम्स को परेशानी क्यों हो रही है? डाक्टरों का कहना  है कि अगर उनको पैसे नहीं देने है तो फिर ड्यूटी क्यूं लगाई जा रही है. आपदा अधिनियम के तहत काम करने की बाध्यता का फायदा क्यों उठाया जा रहा है?

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: