National

एक अक्टूबर से देशभर में पशुओं की गिनती शुरू होगी, सरकार ने जारी किया आदेश

NewDelhi : देशभर में एक अक्टूबर से 20वीं पशुधन गणना शुरू की जायेगी. राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) के साथ भागीदारी के तहत अब तक 19 ऐसी गणनाएं हो चुकी हैं. अंतिम गणना 2012 में हुई थी. बीसवीं पशुधन गणना नस्लवार पशुधन गणना होगी, जो नस्ल सुधार के लिए नीतियों या कार्यक्रमों को तैयार करने में सहायक होगी. कृषि मंत्रालय ने शुक्रवार को इसकी घोषण की है. गणना के आंकड़े टैबलेट या कंप्यूटर के जरिये एकत्र किये जायेंगे. बताया गया है कि ऑनलाइन डेटा एकत्र करने और उसे भेजने के लिए मोबाइल ऐप्लिकेशन सॉफ्टवेयर पूर्व में विकसित किया जा चुका है. सरकारी बयान के अनुसार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से एक अक्टूबर से पशु गणना का काम शुरू करने का अनुरोध किया गया है.

इसे भी पढ़ें : बीएसएफ के हेड कांस्टेबल के साथ की गयी बर्बरता का बदला, पाकिस्तानी सेना के 11 जवान मार गिराये गये

 गणना सभी गांवों और शहरी वार्डों में की जायेगी

 गणना सभी गांवों और शहरी वार्डों में की जायेगी. जानवरों की विभिन्न प्रजातियों के पशुओं की गिनती की जायेगी. गाय, बैल, भैंस मिथुन, याक, भेड़, बकरी, सुअर, घोड़ा, टट्टू, गधे, ऊंट, कुत्ते, खरगोश और हाथियों की गिनती होगी. कुक्कुट पक्षियों जैसे कि पक्षी, बतख, इमू, टर्की, बटेर आदि की गिनती घरों, घरेलू उद्यमों/ गैरघरेलू उद्यमों और संस्थानों के पास उनकी साइट पर की जायेगी. कृषि मंत्रालय के अनुसार, दुधारू मवेशी उत्पादकता (एनएमबीपी) योजना पर राष्ट्रीय मिशन के तहत प्राप्त टैबलेट का उपयोग आंकड़ों के संग्रह के लिए किया जायेगा और इसके लिए राज्यों को आवश्यक समर्थन प्रदान किया गया है.

सरकारी बयान में कहा गया है कि उम्मीद की जाती है कि टैबलेट आंकड़ों के संग्रह, आंकड़ों की प्रोसेसिंग और रिपोर्ट सृजन में समय अंतर को कम करने में मददगार होगा.  

Related Articles

Back to top button