BusinessNational

अनिल अंबानी अरबपतियों के क्लब से बाहर, 42 बिलियन डॉलर से घटकर 523 मिलियन डॉलर हो गयी संपत्ति

Mumbai : 2008 में दुनिया के छठे सबसे अमीर शख्स कहे जाने वाले रिलायंस कम्युनिकेशंस के चेयरमैन अनिल अंबानी अरबपतियों के क्लब से बाहर हो गये हैं.  बिजनेस टुडे की खबर के अनुसार, 2008 में अनिल अंबानी के पास 42 बिलियन डॉलर की संपत्ति थी, जो 11 साल बाद यानी 2019 में घटकर 523 मिलियन डॉलर यानी करीब 3651 करोड़ रुपये हो गयी है. बता दें कि इस संपत्ति में गिरवी वाले शेयर की कीमतें भी शामिल हैं.

 2018 में रिलायंस ग्रुप का कुल कर्ज 1.7 लाख करोड़

चार माह पहले रिलायंस ग्रुप की पूंजी आठ हजार करोड़ रुपये आंकी गयी थी.  मार्च 2018 में रिलायंस ग्रुप का कुल कर्ज 1.7 लाख करोड़ रुपये थ.  पिछले सप्ताह अनिल अंबानी ने कहा था कि बीते 14 महीनों में उनके समूह ने 35 हजार करोड़ रुपये की देनदारी को चुकाया है.  इसके अलावा कंपनी आगे भी अपनी देनदारी को समय-समय पर चुकाती रहेगी. निवेशकों को भरोसा देते हुए अनिल ने कहा था कि एक साल में कंपनी 24, 800 करोड़ रुपये का मूलधन और 10,600 करोड़ रुपये का ब्याज वापस कर चुकी है.

रिलायंस पावर पर 31,697 करोड़ रुपये का कर्ज

अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस पर सबसे ज्यादा 47,234 करोड़ रुपये का कर्ज है.  रिलायंस कैपिटल पर 46,400 करोड़ रुपये,   रिलायंस होम फाइनेंस और रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर पर क्रमश: 13,120 और 23,144 करोड़ रुपये का कर्ज है.  इसके साथ ही रिलायंस पावर पर 31,697 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है. अंबानी की रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग पर 10,689 करोड़ रुपये का कर्ज है.

रिलायंस समूह का बाजार पूंजीकरण 7,539 करोड़ रुपये था

11 जून तक रिलायंस समूह का बाजार पूंजीकरण 7,539 करोड़ रुपये था. अनिल अंबानी की कंपनियों में से सबसे अधिक बाजार पूंजीकरण रिलायंस कैपिटल का है, जो 2,373 करोड़ रुपये है. वहीं रिलायंस कम्युनिकेशंस और रिलायंस पावर का बाजार पूंजीकरण क्रमश: 462 और 1,669 करोड़ रुपये था.  रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग की बात करें, तो 11 जून तक इस कंपनी का मार्केट कैप 467 करोड़ रुपये था.  रिलायंस होम फाइनेंस का पूंजीकरण 860 करोड़ रुपये, वहीं रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर का बाजार पूंजीकरण 1708 करोड़ रुपये है.

इसे भी पढ़ेंः भारतीय अप्रवासी दुनिया में नंबर वन, 2018 में स्वदेश अपने परिजनों को भेजे 79 बिलियन डॉलर
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close