न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरटीआई के जवाब से नाराज पार्षद लेंगे अब कोर्ट की शरण

42

Ranchi: आरटीआई के तहत मिले जवाब से नाराज रांची नगर निगम के पार्षद अब कोर्ट की शरण लेने पर विचार कर रहे हैं. मामला निगम के अतंर्गत हुए स्टैंडिग कमिटी के चुनाव से जुड़ा हुआ है. चुनाव के आये फैसले से नाराज कुछ मुस्लिम पार्षदों ने कहा है कि सूचना के अधिकार के तहत जो सूचना उन्होंने मांगी थी, वो सही नहीं है. अब वे इस संदर्भ में अपने वकील के माध्यम से कोर्ट की शरण लेंगे. आरटीआई के तहत यह सूचना वार्ड 21 के पार्षद एहतेशाम ने स्टैंडिंग कमिटी के चुनाव को लेकर मांगी थी. इस पर जन सूचना पदाधिकारी ने जो सूचना पार्षदों को दी है, उसपर वार्ड 16 की पार्षद नाजिमा रजा ने नाराजगी जतायी है. उन्होंने कहा कि सूचना के जवाब में वह जल्द ही कोर्ट की शरण लेंगी. हालांकि सूचना मांगने वाले पार्षद एहतेशाम ने कहा कि उनका मकसद केवल चुनाव के संदर्भ में सूचना लेना था, इससे अधिक कुछ नहीं.

इसे भी पढ़ें: धनतेरस में इन राशियों वाले पार्टनर को ‘सोना’ गिफ्ट करना पड़ सकता है महंगा

साजिश करने में डिप्टी मेयर पर लगाया था आरोप

मालूम हो कि निगम सभागार में गत 11 अक्टूबर को हुए चुनाव में स्टेंडिंग कमिटी के लिए 10 पार्षदों का चयन किया गया था. इन पार्षदों में एक भी मुस्लिम पार्षदों का चयन नहीं किया जा सका था. इसपर निगम के 10 मुस्लिम पार्षदों ने चुनाव में साजिश करने का आरोप लगाते हुए कहा था कि मुस्लिम पार्षदों को हराने का सारा प्लान डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय का था.

इसे भी पढ़ें: गिरी हुई पार्टी है भाजपा, भगवान राम उनके लिए सत्ता पाने का रास्ता : डॉ अजय कुमार

आरटीआई के जरिये क्‍या जानकारी मांगी गयी

आरटीआई -2005 कानून के तहत वार्ड 21 के पार्षद ने निम्न सूचना मांगी थी:

1 –क्या जोन के चुनाव के समय निगम के सभी 53 पार्षद मौजूद थे? झारखंड अधिनियम 2011 के बाईलॉज में स्पष्ट रूप से लिखा है कि अगर निगम के 53 पार्षदों की उपस्थिति में जोन का चुनाव होता है तो उसे वैध माना जाएगा. चुनाव के वक्त अगर सभी पार्षद मौजूद थे, तो प्रमाण दें और नहीं थे तो क्या चुनाव वैध या अवैध रूप से किया गया, इसकी जानकारी दें.

2 – किस परिसीमन के तहत पार्षद पद का चुनाव 2013 और 2018 में हुआ और जोन किस तरह से बांटा गया, इसकी जानकारी दें.

इसे भी पढ़ें- मेरे परिवारवालों ने मुझे नकार दिया, मैं घुट-घुटकर नहीं जी सकता : तेजप्रताप

नगर निगम की द्वारा उपलब्‍ध करायी गयी जानकारी

1 – अधिनियम की धारा 49(2) के आलोक में कहा गया कि प्रत्येक जोनल समिति में शामिल वार्डों के समस्त निर्वाचित पार्षद शामिल होंगे. अधिनियम के आलोक में जोनल समिति के अध्यक्षों का चुनाव वैध है.

2 – पार्षद पद के चुनाव के लिए वार्डों का परिसीमन जिला प्रशासन द्वारा किया गया है. स्टेंडिंग समिति के गठन की स्वीकृति निगम बोर्ड द्वारा 13 अगस्त को संपन्न बैठक में प्रस्ताव पर दी गयी है.

इसे भी पढ़ें- रांची में गैंगवार में कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की गोली मारकर की हत्या

मेयर ने कहा था चुनाव है वैध, जबकि हम नहीं है संतुष्ट: नाजिम रजा

इस मामले पर न्यूज विंग से बातचीत में वार्ड 16 की पार्षद नाजिमा रजा का कहना है कि उन्होंने जब चुनाव को लेकर मेयर आशा लकड़ा से मुलाकात भी की थी. मेयर ने तो इस चुनाव को सही ठहराया था. जबकि हकीकत यह है कि चुनाव में हम पार्षदों को नहीं चुनने की एक साजिश रची गयी थी. आरटीआई के जवाब पर उन्होंने कहा कि उनके वकील अभी रांची से बाहर हैं. जैसे ही वे आयेंगें, आरटीआई के जवाब में वे कोर्ट की शरण लेंगी. हालांकि आरटीआई दाखिल करने वाले पार्षद एहतेशाम ने तो यह कहा कि कोर्ट जाने का फैसला अभी उनका नहीं है. वे तो केवल यह जानना चाहते थे कि परिसीमन के तहत चुनाव हुआ था या नहीं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: