न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#BJP के नाराज कार्यकर्ता संपर्क में, दीपावली में होगा बड़ा धमाका : जेएमएम

कार्यकर्ताओं को नाराज करना बीजेपी के लिए बनेगा गले की फांस

451

Ranchi : झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के दो विधायकों के बीजेपी में शामिल के बाद पार्टी ने दीपावली के पहले बड़े धमाके की बात कही है.

जेएमएम महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि चुनाव के ठीक पहले अऩ्य दलों के विधायकों को शामिल करा कर बीजेपी ने यह बता दिया है कि उनके नेताओं को अपने निष्ठावान और समर्पित कार्यकर्ताओं पर भरोसा नहीं रहा है.

बाहरी नेताओं को शामिल करने से नाराज ऐसे कार्यकर्ता जेएमएम के लगातार संपर्क में हैं. जेएमएम दूसरे दलों में सेंध मारने के खेल पर भरोसा नहीं करता है. लेकिन बीजेपी नेता संपर्क में हैं, तो पार्टी के आंतरिक स्तर पर इस पर विचार हो रहा है.

दीपावली के ठीक पहले राजनीतिक जगत में एक बड़ा धमाका सुनने को मिलेगा. बता दें कि जेएमएम के दो विधायक कुणाल षाड़ंगी और जेपी पटेल बुधवार को बीजेपी में शामिल हो गये हैं.

इसे भी पढ़ें – बिखरा विपक्ष, पांच विधायक, एक आइएएस, दो आइपीएस समेत कई #BJP में शामिल

प्रलोभन या डर से नेताओं को शामिल कराना बीजेपी की नीति

पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता कर सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि बीजेपी की यह नीति हमेशा से रही है कि प्रलोभन या डर से दूसरे दल के नेताओं को अपने दल में शामिल करा लें.

यह घटना जहां लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा है, तो इससे बीजेपी के आंतरिक कार्यकर्ताओं में भी नाराजगी होने लगी है. उऩ्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के ठीक पहले यह घटना बताती है कि जिस दंभ पर बीजेपी सरकार बनाने का दावा करती है, उसका कोई वजूद नहीं है.

Sport House

जेएमएम महासचिव ने कहा कि चुनाव से पहले अऩ्य दलों के विधायकों को शामिल कराना बताता है कि बीजेपी को अपने समर्पित कार्यकर्ताओं पर भरोसा नहीं रहा है.

सीएम लगातार दावा करते हैं कि पिछले पांच सालों में उनकी सरकार ने राज्य का विकास किया है. लेकिन जनता के बीच जाकर विकास की बात करने की जगह वे दूसरे दल के सीटिंग विधायकों को प्रलोभन या डर दिखा कर सरकार बनाने का ख्वाब देख रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – #Dhoni ने जीता ट्रैफिक पुलिसकर्मी का दिल, मिलाया हाथ, लोगों का भी अभिवादन स्वीकारा

पार्टी को कोढ़ से मिली मुक्ति, बीजेपी के लिए गले की फांस

कुणाल और जय प्रकाश पटेल के बीजेपी में जाने को लेकर उन्होंने कहा कि दोनों नेता पार्टी के अंदर एक कोढ़ थे. पार्टी को आज इस कोढ़ से मुक्ति मिल चुकी है.

कुणाल षाड़ंगी पर निशाना साधते हुए सुप्रियो ने कहा कि हेमंत सोरेन ने युवा नेता को पार्टी में एक उचित स्थान दिया. पार्टी कुणाल की पारिवारिक पृष्ठभूमि को जानती थी, उसके बाद भी उसपर भरोसा कर विधानसभा पहुंचाया.

वहीं जेपी पटेल के पिता स्वर्गीय टेकलाल महतो गुरुजी के साथ झारखंड आंदोलन में शामिल रहे हैं. उनके निधन के बाद न केवल टिकट दिया गया, बल्कि पहली बार राज्य की राजनीति में ऐसा हुआ कि उपचुनाव जीतनेवाले किसी विधायक को मंत्री तक बनाया गया.

सुप्रियो ने कहा कि दोनों नेताओं ने किचिंत प्रलोभन में आकर पार्टी को छोड़ा है. वहीं ऐसा कर बीजेपी ने राज्य के युवाओं को छला है. यही छल बीजेपी के गले की फांस बनने जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – #Jamshedpur: कुणाल षाड़ंगी के फैसले ने बढ़ा दी बीजेपी और जेएमएम दोनों की मुश्किलें, कुणाल लड़ेंगे चुनाव तो क्या करेंगे डॉ दिनेशानंद और समीर

Mayfair 2-1-2020
SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like