न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

…और जब पानी के बदले निकलने लगी अचानक गैस, ओएनजीसी के अधिकारी पहुंचे

2,041

Gomia: गोमिया प्रखंड के स्वांग दक्षिणी पंचायत के स्वांग ग्राम में गुरुवार को पानी के लिए बोरिंग किये जा रहे पाइप से एकाएक पानी की तरह मीथेन गैस निकलने लगा.जिसके बाद ग्रामीणों में हड़कंप मच गया. इसकी सूचना ग्रामीणों द्वारा गोमिया अंचलाधिकारी ओमप्रकाश मंडल को दी गयी. सूचना मिलते ही सीओ श्री मंडल गोमिया क्षेत्र में काम कर रहे ओएनजीसी के कर्मचारियों के साथ स्वांग ग्राम पहुंचे और शाम हो जाने की वजह से दूसरे दिन गैस निकल रहे पाइप को बंद करने की बात कही. शुक्रवार सुबह ही ओएनजीसी के कर्मचारियों ने स्वांग ग्राम पहुंचकर पाइप से निकल रहे मीथेन गैस को फिलहाल बंद कर दिया है. जिससे ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है.

इसे भी पढ़ेंः BREAKING NEWS : सरायकेला में नक्सलियों ने गश्ती दल पर हमला किया, पांच पुलिसकर्मी शहीद

क्या है मामला

जानकारी के अनुसार स्वांग ग्राम निवासी ब्रह्मदेव प्रसाद द्वारा अपने घर के समीप पानी का बोरिंग कराया जा रहा था लेकिन अधिकतर बोरिंग कराने के बाद भी पानी नहीं निकला. फिर भी पानी की आस पर बोरिंग करना जारी रखा गया और कुछ देर बाद पानी की जगह गैस का फब्वारा निकलने लगा. जिससे ग्रामीण दहशत में आ गए और इसकी सूचना गोमिया सीओ सहित ओएनजीसी के पदाधिकारियों को दी. इसके बाद ओएनजीसी के कर्मचारियों ने जांच के बाद बताया कि यह मीथेन गैस है.इसके बाद ग्रामीणों से रात में बिजली का बल्व जलाने एवं घरों में चूल्हा जलाने पर फिलहाल रोक लगा दिया था. जिसके बाद ग्रामीण दहशत में आ गए थे.

इसे भी पढ़ेंः मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

जल स्तर नीचे चले जाने के संकेत

इधर मुखिया धनंजय सिंह, पूर्व मुखिया बिनोद पासवान, केदारनाथ स्वर्णकार,अजयरंजन यादव, रविंद्र यादव,आशीष शर्मा,बिनोद यादव,मुनिलाल यादव ने बताया कि स्वांग ग्राम में बोरिंग करने के दौरान पानी की जगह गैस निकल रहा है. इससे लगता है कि इस क्षेत्र में पानी का लेबल काफी नीचे चला गया है और लगता है कि ग्रामीणों को पीने के पानी के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है.इस बारे में स्थानीय प्रशासन को पानी की व्यवस्था के लिए ठोस उपाय किये जाने की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ेंः अलर्ट के बावजूद सतर्क नहीं हुई सराइकेला पुलिस,  नक्सलियों ने 24 दिन में तीन बड़ी घटनाओं को दिया अंजाम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: