JharkhandSimdega

मंडलकारा में बंद एक विचाराधीन कैदी की ईलाज के अभाव में मौत

Simdega : मंडलकारा में बंद एक विचाराधीन कैदी की ईलाज के अभाव में मौत हो गयी. प्राप्त जानकारी के अनुसार केरसई थाना क्षेत्र के दामादटोली निवासी 35 वर्षीय अब्दुल हफीज अंसारी को जुआ खेलने के आरोप में केरसई पुलिस ने गिरफ्तार कर इसी साल 11 अप्रैल को जेल भेज दिया था. उसकी तबियत बिगड़ने के बाद उसे इलाज के लिए 28 अप्रैल को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

इसे भी पढ़ें :मोबाइल टेस्टिंग वैन से होगा कोविड सैंपल कलेक्शन, 24 घंटे में मिलेगी रिपोर्ट

उसकी तबियत ज्यादा बिगड़ने के बाद सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने बेहतर ईलाज के लिए रिम्स रेफर कर दिया था. लेकिन उसे रिम्स नहीं ले जाया गया. अस्पताल उपाधीक्षक डॉ राजू उरांव ने बताया कि मरीज को बेहतर ईलाज के लिए रिम्स रेफर किया गया था. लेकिन नहीं ले जाया गया. शनिवार को हफीज की मौत हो गयी.

advt

बन्दी के पिता इलियास अंसारी ने कहा कि रिम्स ले जाये जाने पर उसके बेटे की जान बच सकती थी. उनके बेटे की मौत ईलाज के अभाव में हो गयी. इधर मामले में जेल प्रबंधन का कहना है कि बन्दी को रेफर किये जाने की जानकारी देते हुए अदालत से रांची ले जाने की अनुमति मांगी गयी थी. अदालत द्वारा शुक्रवार को अनुमति दी गयी. इसके बाद एसपी से सुरक्षाकर्मियों की मांग की गयी थी.

शनिवार को उसे रिम्स ले जाया जाना था. इधर कैदी की मौत होने की जानकारी अस्पताल प्रबंधन ने जेल प्रशासन को दी. इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा मजिस्ट्रेट के रूप में कार्यपालक दंडाधिकारी राजेन्द्र कुमार की प्रतिनियुक्ति की गयी. मजिस्ट्रेट और सदर थाना के एएसआइ अक्षयवर राम ने शव का पंचनामा तैयार करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

इसे भी पढ़ें : एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की पहली बरसी पर डायरेक्टर अनुभव सिन्हा क्या लिखा जो हुए ट्रोल

इसके बाद तीन सदस्यीय मेडिकल बोर्ड के द्वारा मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कराया गया. पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी करायी गयी. मेडिकल बोर्ड में डॉ एसएन साहू, डॉ मनोज महतो और डॉ एमपी डुंगडुंग शामिल थे. डॉक्टरों ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारणों का पता चल सकेगा.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: