Sports

राष्ट्रीय जूनियर महिला हॉकी चैंपियनशिप के जरिये झारखंड के रग-रग में हॉकी का जुनून भरने की कवायद  

Ranchi : एक बार फिर सिमडेगा खेल मानचित्र पर छाने को तैयार है. 20 से 29 अक्टूबर तक यहां 11वीं हॉकी इंडिया राष्ट्रीय जूनियर महिला हॉकी प्रतियोगिता का आयोजन होना है. सीएम हेमंत सोरेन इसका उद्घाटन 20 अक्टूबर को करेंगे. हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्र निकोदम सहित हॉकी झारखंड के प्रमुख भोलानाथ सिंह समेत कई अन्य भी शामिल होंगे. इस चैंपियनशिप के बहाने जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम का भी चयन होना है. हॉकी इंडिया की ओर से सेलेक्टर के तौर पर भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान असुंता लकड़ा शामिल होंगी. 196 देशों में हॉकी इंडिया इसका प्रसारण करेगा. जाहिर है कि ऐसे में इस टूर्नामेंट का रोमांच देखने को मिलेगा. टूर्नामेंट भले सिमडेगा में होना है, पर इसका दूरगामी असर झारखंड के सभी चौबीसों जिले में दिखना शुरू है. सलीमा टेटे जैसी ओलंपियन तैयार करने की कसक हर जिले में खेल संघों में होने लगी है. रग-रग में हॉकी का जुनून फैलने लगा है.

इसे भी पढ़ें – गुरमीत राम रहीम सहित 5 दोषियों को उम्रकैद की सजा, रंजीत सिंह हत्‍याकांड में स्पेशल कोर्ट का फैसला

सब जूनियर से नयी पहचान

हॉकी झारखंड के जेनरल सेक्रेट्री विजय शंकर सिंह कहते हैं कि इसी साल 6-7 माह पहले सिमडेगा में नेशनल सब-जूनियर महिला हॉकी चैंपियनशिप का आयोजन हुआ. 192 देशों में टेलिकास्ट किया गया. हॉकी की नर्सरी के तौर पर महज झारखंड तक पहचान रखनेवाले सिमडेगा की खोज देश दुनिया में की जाने लगी. आय़ोजन इतना शानदार रहा था कि सिमडेगा को एक देश की तरह दर्शक पूछने जानने लगे थे. अब जूनियर महिला हॉकी प्रतियोगिता के जरिये यह जिला दुनियभार में फिर से अपनी एक विशिष्ट पहचान बनाने में सफल होगा. 27 टीमें इस टूर्नामेंट में खेलेंगी. इसके जरिये देश को राष्ट्रीय और इंटरनेशनल स्तर के लिये खिलाड़ियों की तलाश करने में भी मदद मिलेगी. उम्मीद है कि झारखंड से सलीमा टेटे जैसी और भी ओलंपियन निकल कर सामने आये.

इसे भी पढ़ें – पंचायत चुनाव पर सीएम से चर्चा, छठ के बाद जारी हो सकती है अधिसूचना

तीनों फॉर्मेट में झारखंडी प्लेयर्स बनायेंगे पहचान

हॉकी झारखंड के मुताबिक सिमडेगा की माटी में अनोखा जादू है. यहां के बच्चे 5 बरस के होते-होते हॉकी स्टिक थामने को उतावले होते रहते हैं. भले ही पैरों में जूते न हों, ढंग की स्टिक न हो. खेलने को आदर्श मैदान न हो, बस खेलने का जुनून उनमें दिखता है. यही वजह है कि तमाम इंटरनेशनल प्लेयर्स और ओलंपियन यहां से निकलते दिखते हैं. एक समय में देश की नेशनल टीम में (पुरुष, महिला) आधे से अधिक झारखंड से जुड़े प्लेयर्स होते थे. अब भी खासकर सिमडेगा से कई प्लेयर्स निकल कर भारतीय टीम में सेवा दे रहे हैं. ब्यूटी डूंगडूंग, संगीता सहित कई प्लेयर्स इंडियन टीम में हैं. दिसंबर में वर्ल्ड कप खेलेंगी. यही कारण रहा है कि इस जिले को खेल मैप में और विशिष्ट दर्जा देने को यहां राष्ट्रीय स्तर का टूर्नामेंट कराने का चैलेज दूसरी बार लिया गया है.

सिमडेगा में सब जूनियर के बाद अब जूनियर चैंपियनशिप के जरिये और भी हीरों की परख होगी. अगले दो सालों में सिमडेगा सहित अन्य जिलों से सब जूनियर, जूनियर और सीनियर स्तर पर हमारे पास खिलाड़ियों की बड़ी संख्या होगी जो भारतीय टीम (तीनों फॉर्मेट) में अपना हुनर दिखाते नजर आयेंगे. अगले एक-दो ओलंपिक में कम से 4 से 5 झारखंडी प्लेयर्स ऐसे होंगे जो भारत के लिए खेलते नजर आयेंगे.

इसे भी पढ़ें – 21 वर्षों में बने ग्रामीण सड़क व पुलों का डाटा बेस होगा तैयार, सॉफ्टवेयर बनकर तैयार

Related Articles

Back to top button