न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमृतसर रेल हादसाः शुरुआती इनकार के बाद अब जांच कराने को तैयार रेलवे

चार नवंबर से रेलवे शुरु करेगा जांच

23

New Delhi: भारतीय रेलवे ने शुक्रवार को कहा कि अमृतसर हादसे की जांच मुख्य रेल संरक्षा आयुक्त करेंगे. इस हादसे में एक ट्रेन की चपेट में आ जाने से पटरी के किनारे रावण दहन देख रहे 60 लोग मारे गए थे. गौरतलब है कि करीब दो हफ्ते पहले हुए इस हादसे के बाद रेलवे ने कहा था कि वह इस घटना की कोई जांच नहीं कराएगा.

mi banner add

इसे भी पढ़ेंःअमृतसर ट्रेन हादसा: जांच आयोग के समक्ष पेश होने से नवजोत सिद्धू को मिली छूट

4 नवंबर से शुरु होगी जांच

उत्तरी रेलवे की ओर से जारी एक अधिसूचना के मुताबिक, जांच रविवार (चार नवंबर) से शुरू होगी. अधिसूचना के जरिए रेलवे ने ऐसे लोगों को मुख्य रेल संरक्षा आयुक्त शैलेश पाठक के सामने अपना बयान दर्ज कराने के लिए आमंत्रित किया है, जिनके पास हादसे से जुड़ी सूचना है. अमृतसर स्थित रेलवे मैकेनिकल वर्कशॉप में लोग मुख्य रेल संरक्षा आयुक्त के समक्ष अपना बयान दर्ज करा सकेंगे. यह पांच नवंबर तक चलेगा.

रेलवे ने बयान जारी कर कहा कि रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त उन मामलों की जांच कर सकते हैं जहां नियम और कानून के अनुसार यह आवश्यक नहीं है, इस मामले में भी वह ऐसा करेंगे.

इसे भी पढ़ेंःमोदी सरकार बना सकती है राम मंदिर निर्माण के लिए कानून: जस्टिस चेलमेश्वर

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

सांसद गुरजीत सिंह ने किया था आग्रह

बयान के मुताबिक, ‘‘अमृतसर के सांसद गुरजीत सिंह औजला ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात कर व्यक्तिगत रूप से 23 अक्टूबर को लिखा अपना पत्र सौंपते हुए इस हादसे की जांच मुख्य रेलवे संरक्षा आयुक्त से कराने का आग्रह किया. रेल मंत्रालय ने इस आग्रह और अन्य तथ्यों, परिस्थितियों और कानूनी प्रावधानों पर विचार किया.’’

इसमें कहा गया कि कानून के अनुसार ऐसे मामलों में मुख्य रेलवे संरक्षा आयुक्त से जांच कराने की आवश्यकता नहीं है. लेकिन ऐसा कराना अनुचित भी नहीं है.लखनऊ के मुख्य रेलवे संरक्षा आयुक्त को मामले में उन परिस्थितयों की जांच करने को कहा गया है, जिस कारण यह हादसा हुआ था. साथ ही यह भी कहा कि प्रथम दृष्टया इस हादसे के लिए परिवाहक जिम्मेदार दिखाई नहीं देता.

इसे भी पढ़ेंःजांच रिपोर्टः हाइकोर्ट भवन निर्माण के टेंडर में ही हुई घोर अनियमितता, क्या तत्कालीन सचिव राजबाला…

इधर मामले की जांच कर रहे आयोग ने पंजाब सरकार में मंत्री नवजोर कौर सिद्धू को क्लीन चिट देते हुए जांच आयोग के समक्ष पेश नहीं होने की छुट दी है. गौरतलब है कि 19 अक्टूबर को दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान अमृतसर में ट्रेन की चपेट में आने से 60 लोगों की मौत हो गयी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: