National

अमित शाह ने माना, यूपी में सपा-बसपा आये साथ, तो थोड़ी परेशानी हाेगी

NewDelhi : यूपी में अगर सपा और बसपा साथ आती हैं, तो 2019 के लोकसभा चुनाव में कुछ समस्या आ सकती है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यह बाात कही है. बता दें कि अमित शाह ने एक कार्यक्रम में सवाल-जवाब के क्रम में  यह बात स्वीकार की. अमित शाह ने बताया कि यूपी में पिछले चुनाव में भाजपा का वोट प्रतिशत 45 प्रतिशत था.  सप और बसपा की बात करें तो उनका वोट प्रतिशत संयुक्त रूप से लगभग  51 प्रतिशत रहा. शाह ने कहा कि भाजपा को  इस छह प्रतिशत के अंतर को पाटना होगा. है.  शाह के अनुसार भाजपा की प्रतिबद्धता के साथ इस अंतर को पाटने की तैयारी है.  साथ ही शाह ने छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्यप्रदेश   चुनाव के बाद एग्जिट पोल से मिले संकेतों पर भी अपनी राय दी. कहा कि तीनों राज्यों में पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार बनेगी. शाह ने राफेल, राम मंदिर, राबर्ट वाड्रा आदि पर भी अपनी बात रखी.

शाह ने राफेल रक्षा सौदे को लेकर राहुल गांधी के आरोपों को खारिज किया. कहा, राफेल सौदे में एक कौड़ी का भ्रष्टाचार नहीं हुआ है. मैं पहले भी कह चुका हूं कि अगर कांग्रेस अध्यक्ष के पास कोई जानकारी है तो उसका स्रोत बताये. चुनौती दी कि इस बारे में वह  SC में भी हलफनामा दायर कर सकते हैं.

कांग्रेस को  राम मंदिर पर बोलने का अधिकार नहीं

अयोध्या में राम मंदिर सवाल पर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राम मंदिर पर कांग्रेस को बोलने का अधिकार नहीं है. कहा कि अब तक राम मंदिर पर फैसला आ जाना चाहिए था. आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने इस मुद्दे पर अदालत में देर करने पर जोर दिया था. उन्होंने कहा, हम मानते हैं कि भव्य राम मंदिर का निर्माण तुरंत होना चाहिए. पश्चिम बंगाल में उनकी रथ यात्रा रोकने के ममता बनर्जी सरकार के प्रयास के बारे में भी अपनी बात रखी. एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि बंगाल में हमारी आवाज दबाने का जितना प्रयास किया जायेगा, भाजपा उतनी ही मुखरता के साथ बंगाल के गांव-गांव तक जायेगी.

उन्होंने जोर दिया कि बंगाल में भाजपा आने वाले समय में जरूर सरकार बनायेगी. राबर्ट वाड्रा के करीबियों के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय के छापे पर शाह बोले कि अब समय बदल गया है और ऑफिसर भी समझ चुके हैं कि अब चोरी नहीं चलेगी. बैंकों का कर्ज लेकर देश से भागने वालों के संबंध में कांग्रेस के आरोप पर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जो भागे हैं उनको लोन कांग्रेस के समय दिया गया. कांग्रेस के समय में एक भी नहीं भागा क्योंकि उनको कांग्रेस का संरक्षण था. मोदी सरकार ने कठोर कार्रवाई की इसीलिए भागे .

एनआरसी पर बोले, भारत कोई धर्मशाला नहीं

एनआरसी के मुद्दे पर अमित शाह ने कहा कि यह कोई धर्मशाला नहीं है जहां अवैध प्रवासी आकर बस जायें.  भारत के संसाधनों पर भारतीयों का हक है. इस क्रम में अवैध आव्रजन को देश के लिए खतरा बतातेहुए शाह ने कहा कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) देश के बुनियादी मसलों को सुलझाने का एक तरीका है.  इसे भाजपा से नहीं जोड़ा जाना चाहिए. मोदी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि 70 साल तक देश में टुकड़ों-टुकड़ों में काम हुआ. वर्तमान सरकार ने चार साल में सरकार की योजनाओं को घर-घर तक पहुंचाकर देश के गरीबों का जीवन स्तर ऊपर उठाने का काम किया.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close