NEWS

अमेरिकी मीडिया का दावा: चीनी राष्ट्रपति के इशारे पर हुई थी झड़प, गलवान में 40 नहीं चीन के 60 सैनिक मारे गए थे

New Delhi. भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव बढ़ता ही जा रहा है. बढ़ते तनाव के बीच अमेरिकी मीडिया ने दावा किया है कि 15 जून को गलवान में हुई झड़प में चीन के 60 से ज्यादा चीनी सैनिक मारे गए. ये बात अमेरिका के एक पेपर ने अपनी संपादकीय में लिखा है.

इसे भी पढ़ें- सीएम नीतीश से पीएम मोदी, ‘रघुवंश प्रसाद की आखिरी चिट्ठी में जो है, उसे पूरा करना है’

advt

आर्टिकल में कहा गया है कि भारतीय सीमा पर चीन की सेना की विफलता के परिणाम सामने आएंगे. चीनी आर्मी ने शुरुआत में शी जिनपिंग से इस विफलता के बाद फौज में विरोधियों को बाहर करने और वफादारों की भर्ती करने की बात कही है. जाहिर है, बड़े अफसरों पर गाज गिरेगी. जिनपिंग पार्टी के सेंट्रल मिलिट्री कमीशन के अध्यक्ष भी हैं और इस नाते पीएलए के लीडर भी, वो भारत के जवानों के खिलाफ एक और आक्रामक कदम उठाने के लिए उत्तेजित होंगे.  

न्यूज वीक ने किया बड़ा खुलासा

चीन के 60 सैनिकों के मारे जाने का खुलासा अमेरिकी अखबार न्यूज वीक ने किया है. रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय जवानों के साथ 15 जून को हुई झड़प में 40-45 नहीं बल्कि 60 चीनी सैनिकों की मौत हुई थी. इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि गलवान में हिंसा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के इशारे पर हुई थी. जिसमें चीनी सेना पूरी तरह नाकाम रही.

adv

हो सकती है बड़ी कार्रवाई

अखबार ने दावा किया है कि चीन, भारत के खिलाफ बड़ा कदम उठा सकता है. रिपोर्ट में चेतावनी देते हुए कहा गया है कि चीन अपनी विफलताओं से और ज्यादा क्रोधित है. ऐसे में इसके दूरगामी परिणाम निकल सकते हैं. 

सीमा पर तनाव

दरअसल, मई की शुरुआत में ही लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल ( LAC ) के दक्षिण में चीन की फौजें आगे बढ़ीं. यहां लद्दाख में तीन अलग-अलग इलाकों में भारत-चीन के बीच टेम्परेरी बॉर्डर है. सीमा तय नहीं है और पीएलए भारत की सीमा में घुसती रहती है. इस दौरान गलवान वैली में भारत और चीन के सैनिकों के झड़प हुई, थी जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: