न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारत के साथ गोपनीय डिफेंस टेक्नॉलजी शेयर करने की तैयारी कर रहा अमेरिका

 फिलहाल, भारतीय प्राइवेट सेक्टर के साथ अमेरिकी कंपनियों के गोपनीय रक्षा सूचनाएं शेयर करने का कोई प्रावधान नहीं है. हालांकि दोनों देश महत्वपूर्ण मिलिट्री प्लैटफॉर्म्स के संयुक्त विकास के पक्षधर रहे हैं.

49

NewDelhi :  अमेरिका भारत के साथ महत्वपूर्ण मिलिट्री टेक्नॉलजी और गोपनीय सूचनाएं साझा करने के फ्रेमवर्क पर काम कर रहा है.  यह व्यवस्था कुछ इस तरह से तैयार की जायेगी जिससे अमेरिकी रक्षा कंपनियां भारतीय प्राइवेट सेक्टर को संयुक्त उपक्रम के तहत अहम टेक्नॉलजी ट्रांसफर कर सकें.  आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इस फ्रेमवर्क में विशिष्ट उपायों का जिक्र होगा जिससे भारतीय कंपनियों के साथ साझा की गयीं संवेदनशील टेक्नॉलजी और गोपनीय सूचनाओं की  सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके.

फिलहाल, भारतीय प्राइवेट सेक्टर के साथ अमेरिकी कंपनियों के गोपनीय रक्षा सूचनाएं शेयर करने का कोई प्रावधान नहीं है. हालांकि दोनों देश महत्वपूर्ण मिलिट्री प्लैटफॉर्म्स के संयुक्त विकास के पक्षधर रहे हैं.  सूत्रों ने बताया कि दोनों देश महत्वपूर्ण मिलिट्री टेक्नॉलजी साझा करने के लिए विशिष्ट रूपरेखा पर काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि गवर्नमेंट टु गवर्नमेंट फ्रेमवर्क से जवाबदेही, बौद्धिक संपदा अधिकार और औद्योगिक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर स्पष्टता आयेगी.   बता दें कि अमेरिकी रक्षा उद्योग मिलिट्री हार्डवेयर और प्लैटफॉर्म्स के निर्माण के लिए निजी क्षेत्र की भारतीय रक्षा कंपनियों के साथ समझौते की रूपरेखा चाहता है.

इसे भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हत्याएं, गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल के अधिकारियों से ग्राउंड रिपोर्ट मांगी

अमेरिकी कंपनियों की नजरें भारत के साथ अरबों डॉलर के समझौते पर

बोइंग और लॉकहीड मार्टिन जैसी अमेरिका की बड़ी रक्षा कंपनियां भारत के साथ अरबों डॉलर के समझौते पर नजरें गड़ाये हुए हैं.  अमेरिका ने भारतीय कंपनियों के साथ संयुक्त उपक्रम में कुछ प्रमुख सैन्य प्लैटफॉर्म का भारत में ही निर्माण करने की पेशकश की है. पिछले महीने लॉकहीड मार्टिन ने भारत में अपने नवीनतम लड़ाकू विमान F-21 बनाने की पेशकश की थी. इस अमेरिकी रक्षा कंपनी ने यह भी कहा कि अगर भारत 114 विमानों के ऑर्डर देता है तो वह किसी अन्य देश को यह विमान नहीं बेचेगी.  US-इंडिया बिजनस काउंसिल (USIBC) भी भारतीय कंपनियों के साथ महत्वपूर्ण टेक्नॉलजी साझा करने के लिए रूपरेखा बनाने का दबाव बना रही है.

एक अधिकारी ने कहा कि कई अमेरिकी कंपनियों की नजरें भारत में मेगा प्रॉजेक्टों पर हैं लेकिन वे भारतीय प्राइवेट सेक्टर के साथ शेयर की जाने वाली महत्वपूर्ण टेक्नॉलजी की सुरक्षा को लेकर आश्वस्त नहीं हैं.   स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप मॉडल के तहत प्राइवेट फर्म्स विदेशी कंपनियों के साथ साझेदारी कर भारत में सबमरीन और लड़ाकू विमान जैसे मिलिट्री प्लैटफॉर्म्स का निर्माण कर सकती हैं.  भारत और अमेरिका के रक्षा संबंध मजबूत हैं और दोनों देश इसे आगे बढ़ाने को लेकर प्रतिबद्धता जता चुके हैं.  बता दें कि जून 2016 में अमेरिका ने भारत को मेजर डिफेंस पार्टनर का दर्जा दिया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: