न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमेरीका एनएसजी में भारत की सदस्यता का समर्थन करता है : निक्की हेली

201

NewDelhi :  संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की  हेली दो दिवसीय भारत दौरे  पर  हैं.  वे अपने इस दौरे  में  भारतीय लोगों के स्‍वागत से अभिभूत  हैं.  इस बात  का  जिक्र  निक्की हेली  ने  गुरुवार को  संवाददाता  सम्‍़मेलन में  किया.  कहा कि भारतीयों के स्वागत से मैं अभिभूत हूं.  आप लोगों के सम्मान और प्यार पाकर मेरा सिर गर्व से ऊंचा उठ गया है.  मैं भारतीय अप्रवासियों की बेटी हूं.  उन्होंने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता व्यक्ति की स्वतंत्रता जितनी ही महत्वपूर्ण है.  इस क्रम में  हेली ने कहा  कि अमेरिका परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता का समर्थन करता है, क्योंकि यह ऐसा परमाणु हथियार संपन्न देश है, जिसका काफी सम्मान है.   कहा  कि अमेरीका में भारतीयों की स्थिति अच्छी और मजबूत है.  निक्की हेली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की . इससे  पूर्व  हेली ने पीएम मोदी से मिलकर भारत-अमरीका सहयोग बढ़ाने और आतंकवाद से मुकाबले के तरीकों पर चर्चा की.

इसेे  भी  पढ़ें :  सेना का मनोबल तोड़ना कांग्रेस की नीति है, कांग्रेस आतंकियों के हौसले बुलंद कर रही है  : रविशंकर प्रसाद

पाकिस्तान को आतंकवादी समूहों की शरणस्थली बनना बर्दाश्त नहीं करेंगे 

आधिकारिक तौर पर जारी एक बयान में कहा गया है कि मुलाकात के दौरान हेली ने कहा कि भारत और अमरीका के बीच खासतौर से रणनीतिक और रक्षा के क्षेत्रों में संबंध गहरे हो रहे हैं.  मोदी ने ट्रंप की दक्षिण एशिया और हिंद-प्रशांत रणनीतियों की प्रशंसा की और कोरिया प्रायद्वीप को परमाणुविहीन करने की उनकी पहल की तारीफ की.  मोदी से मुलाकात के बाद निक्की हेली दिल्ली स्थित शीशगंज साहिब गुरुद्वारा पहुंचीं। गुरुद्वारा में निक्की हेली ने लंगर में रोटियां बनाकर सेवा की.  निक्की  हेली  ने  ऑब्जर्वर रिसर्च फाउन्डेशन  के व्याख्यान में कहा  कि पाकिस्तान को आतंकवादी समूहों की शरणस्थली बनना बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.  आतंकवादियों को पनाह देने वालों के प्रति हम आंखें नहीं मूंद सकते.   पाकिस्तान से कहा गया है कि इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

इसेे  भी  पढ़ें :  पश्‍चिम बंगाल : घरेलू नौकरानियों के  संगठन  पीजीपीएस को ट्रेड यूनियन का अधिकार मिला

भारत  व  अमेरिका को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वैश्विक अगुवा होना चाहिए

उन्होंने  कहा कि भारत और अमेरिका को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वैश्विक अगुवा होना चाहिए.  उन्होंने कहा,’हम ऐसा कर सकते हैं तथा हमें अवश्य और प्रयास करना चाहिए.  उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखी.  उन्होंने कहा कि धर्म की स्वतंत्रता बेहद महत्वपूर्ण है और हमारे जैसे देश को सहिष्णुता के जरिए ही एकजुट रखा जा सकता है.  चीन के बारे में उन्होंने कहा कि यह देश महत्वपूर्ण है, लेकिन उसने इस तथ्य पर गौर किया कि क्षेत्र में उसका विस्तार अमेरिका और कई अन्य देशों के लिए चिंता का विषय है क्योंकि बीजिंग लोकतांत्रिक मूल्यों को साझा नहीं करता है.  हिंद-प्रशांत क्षेत्र में नौवहन की स्वतंत्रता और स्थिरता सुनिश्चित करने के बारे में सिंगापुर में शांगरी-ला डायलॉग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हालिया बयान का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप भी इस दृष्टि में विश्वास करते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: