HazaribaghJharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

CM हेमंत सोरेन से महिन्द्रा फाइनेंस कंपनी और प्राइवेट बैंकों पर नकेल कसने को अंबा प्रसाद ने की कानून बनाने की मांग

Ranchi : बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद ने महिन्द्रा फाइनेंस कंपनी और प्राइवेट बैंकों के रवैये और तरीकों पर नाराजगी जाहिर की है. इन पर नकेल कसे जाने की वकालत की है. शनिवार को वे इचाक प्रखण्ड के डुमरौन गांव गयी थीं.  शुक्रवार को महिन्द्रा फाइनेंस कंपनी के रिकवरी एजेंटों के द्वारा मारी गयी गर्भवती बहू मोनिका के शोकाकुल परिवार से मिली. उन्हें ढाढस बंधाया. अफसोस और आक्रोश जताते कहा कि कोई भी निजी बैंक या फाइनेंस कंपनी पैसों के लिए इस हद तक गिर सकती है कि ट्रैक्टर से कुचल कर एक गर्भवती महिला की जान ले, यह सोचा भी नहीं जा सकता. अंबा ने इस दौरान यह भी कहा कि वे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से यह निवेदन करेंगी कि रिकवरी एजेंटों और बैंकों की ऐसी करतूत पर रोक लगायी जाए. इसके लिए झारखण्ड में कानून लाएं. हजारीबाग डीसी और पुलिस से भी अपील करते कहा कि यह जघन्य अपराध है. ऐसा करने वाले व्यक्ति और बैंक, दोनों पर कार्यवाही करें. इससे समाज में ऐसे मनचलों को मनमानी करने से रोका जा सकेगा. महिन्द्रा फाइनेंस कंपनी पर कड़ी कार्यवाही हो. साथ ही इस परिवार को न्याय दिलाया जाए.

यह है मामला

गौरतलब है कि इचाक में एक यह दिल दहलाने वाली वारदात सामने आयी है. हजारीबाग जिले के इचाक निवासी दिव्यांग मिथिलेश मेहता ने महिंद्रा फाइनांस से कर्ज पर ट्रैक्टर लिया था. समय पर चुका नहीं पाये तो ट्रैक्टर लेने पहुंचे रिकवरी एजेंटों ने किसान की युवा गर्भवती पुत्री मोनिका को ट्रैक्टर से कुचल कर मार डाला. मोनिका ग्रेजुएट थी. उसने खुद को महिंद्रा फाइनांस का जोनल मैनेजर बताने वाले शख्स से उसकी आईडी मांगी तो उसने गुस्से में चालक को उसे ट्रैक्टर से रौंदने का हुक्म दिया. इस घटना के बाद से लगातार मांग उठ रही है कि बैंकों और फाइनांस कंपनियों की गुंडागर्दी के खिलाफ सख्त कानून बनाया जाए.

इसे भी पढ़ें: महिंद्रा फायनांस के वसूली एजेंटों ने दिव्यांग किसान की गर्भवती बेटी को ट्रैक्टर से रौंदकर मार डाला, फूटा गुस्सा

Related Articles

Back to top button