न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमरिंदर ने सिद्धू पर फोड़ा हार का ठीकरा, कहा- पार्टी मुझे या नवजोत में से एक को चुने

659

Chandigarh: लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की करारी हार हुई है. वहीं पंजाब में कांग्रेस अपनी साख बचाने में कामयाब रही है.

13 सीटों में से कांग्रेस ने 8 सीटें जीती, जबकि बीजेपी के खाते में चार सीट और आम आदमी पार्टी की झोली में एक सीट आयी है.

Trade Friends

लेकिन कांग्रेस की बुरी तरह हार से पार्टी बिफरी हुई है. वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने हार के लिए कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को जिम्मेदार ठहराया.

इसे भी पढ़ेंःलोकसभा चुनाव में पहली बार लालू की पार्टी राजद अपना खाता तक नहीं खोल पायी

बृहस्पतिवार को उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान धर्मग्रंथों की बेअदबी पर सिद्धू की टिप्पणी को लेकर वह कांग्रेस आलाकमान से संपर्क करेंगे.

अमरिंदर ने पार्टी नेतृत्व से दो टूक कह दिया है कि वह सिद्धू और उनमें से किसी एक को चुन लें. चुनाव से एक दिन पहले सिद्धू ने 2015 में धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी की जांच पर सवाल उठाए थे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिद्धू के बयान से बठिंडा में पार्टी के प्रदर्शन पर असर पड़ा होगा. और चुनाव परिणामों के बाद वह पार्टी आलाकमान से संपर्क करेंगे.

‘बाजवा से गले मिलना पड़ा भारी’

दरअसल, गुरुवार को जब नतीजे आये तो उसके बाद ही कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को हार का जिम्मेदार ठहराया था.

WH MART 1

अमरिंदर सिंह ने कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू का पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जावेद बाजवा से गले मिलना पार्टी को महंगा पड़ा. किसी भी हिंदुस्तानी को ये बात रास नहीं आई.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड : BJP और सहयोगी 12 सीटों पर जीते, शिबू , मरांडी, सुबोधकांत बुरी तरह पराजित

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिद्धू की पाकिस्तान के सेना प्रमुख से ‘यारी और झप्पी’ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. और खासकर सेना इसे बर्दाश्त नहीं करेगी जिसे आईएसआई समर्थक आतंकवादी निशाना बनाते हैं.

सिद्धू के प्रदर्शन की समीक्षा जरुरी

मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्री के तौर पर सिद्धू के प्रदर्शन की समीक्षा किए जाने की जरूरत है. क्योंकि वह अपना विभाग नहीं संभाल पा रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब के शहरी इलाकों में कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा और सिद्धू शहरी विकास मंत्री हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने विवादास्पद बयान देकर गलती की है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्री इस बात को नहीं समझ पाए कि धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी के मुद्दे की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया था.

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव परिणामों के परिप्रेक्ष्य में राज्य के मंत्रियों के प्रदर्शन की समीक्षा की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद लोकसभा से पशुपतिनाथ की हैट्रिक, बोल्ड हुए कीर्ति  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like