Lead NewsNational

भारत के अमन ने Google की 280 गलतियां निकालीं, मिला ₹ 65,00,00,000 का इनाम, गुगल ने बताया टॉप रिसर्चर

Indore : दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट-सर्च कंपनी गूगल (Google) की 280 गलतियां निकालीं एक भारतीय ने. उनका नाम है- अमन पांडे. वह मध्य प्रदेश के शहर इंदौर के रहने वाले हैं. उनके बेहतरीन काम और खोज के लिए गूगल ने उन्हें सम्मानित करने का फैसला किया. गूगल की गलतियां ढूंढने के लिए उन्हें 65 करोड़ रुपये का इनाम दिया है.

इसे भी पढ़ें : BIG NEWS : हरियाणा में निजी क्षेत्र में 75 % आरक्षण पर HC की रोक को सुप्रीम कोर्ट ने किया रद, झारखंड में भी है ऐसा नियम

इंदौर का युवा GOOGLE का टॉप रिसर्चर

इंदौर के रहनेवाले अमन ‘बग्स मिरर’ नाम की कंपनी चलाते हैं. अमन ने गूगल की 280 गलतियां खोजकर बग रिपोर्ट अमेरिका भेजी थी. गूगल ने अपनी विभिन्न सेवाओं पर पिछले साल बग रिपोर्ट करने वालों को 87 लाख डॉलर का इनाम दिया. इनमें एक नाम इंदौर के अमन का ही है. गूगल ने अपनी रिपोर्ट में इनका खास तौर पर जिक्र भी किया है. गूगल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, ”अमन पांडेय पिछले साल हमारे टॉप रिसर्चर रहे. इसलिए कंपनी ने इन लोगों को 65 करोड़ रुपये का इनाम दिया है.’

इसे भी पढ़ें :  जीतन राम मांझी का बड़ा बयान, सीएम बनने की जताई इच्छा, कहा- मिला मौका तो चूकेंगे नहीं

भोपाल से ‌किया था B. Tech

दिलचस्प बात यह है कि, गूगल की गलतियां अमन ने अपनी पढ़ाई पूरी करने से पहले से निकालनी शुरू कर दी थीं. अमन ने भोपाल से बी. टेक किया. उसके बाद पिछले साल जनवरी में कंपनी शुरू की थी. जिसका नाम- “बग्स मिरर” है.

गूगल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि अमन ने पिछले साल 232 बग रिपोर्ट किए. पहली बार उन्होंने वर्ष 2019 में अपनी रिपोर्ट दी थी और तब से अब तक वह एंड्रॉइड वल्नरेबिलिटी रिवॉर्ड प्रोग्राम (वीआरपी) के लिए 280 से ज्यादा वल्नरेबिलिटी के बारे में रिपोर्ट कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :  RANCHI: लालपुर में जमीन विवाद को लेकर दो पक्ष में पत्थरबाजी, कई लोग जख्मी

एप्पल सहित कई विदेशी कंपनियों की मदद की

गूगल का कहना है कि, अमन का काम हमारे कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण साबित हुआ है. अमन की कंपनी बग्स मिरर गूगल, एप्पल और अन्य कंपनियों को उनके सिक्योरिटी सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करती है.

इसे भी पढ़ें : पलामू पुलिस को चकमा देकर हुआ था फरार, कुख्यात अपराधी इंदल पासवान बिहार के गया से गिरफ्तार

क्या कहते हैं अमन

अमन के मुताबिक, उन्होंने अपनी कंपनी बग्स मिरर की शुरुआत जनवरी 2021 में की. उन्होंने बताया कि, उनकी मैनेजमेंट टीम में अभी 4 लोग हैं. बाकी इंटर्न हैं. उन्होंने कहा, “हम लोगों ने इसकी शुरुआत स्टार्टअप के तौर पर की. इसकी सफलता पर अब हम बहुत उत्साहित हैं.”

इसे भी पढ़ें :  जमशेदपुर: छेड़खानी का विरोध किया तो ससुरालवाले करने लगे प्रताड़ित

Related Articles

Back to top button