न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अलवर मॉब लिंचिंग का फैसला : पहलू खान की हत्या के छह आरोपी कोर्ट से बरी

न्यायालय द्वारा आरोपियों को बरी किये जाने  के फैसले पर पहलू के बेटे इरशाद ने अफसोस जताया  है

47

Alwar : राजस्थान के अलवर में पहलू खान की हत्या  (मॉब लिन्चिंग) के मामले में अलवर जिला न्यायालय ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए छह आरोपियों को बरी कर दिया. बता दें कि गोतस्करी के शक में एक अप्रैल 2017 को कथित गोरक्षकों की भीड़ ने पहलू खान को जमकर पीटा  था. जान लें कि  दूध का बिजनेस करने वाले पहलू की दो दिन बाद ही मौत हो गयी थी. पहलू खान की हत्या की घटना में नौ आरोपी पकड़े गये थे, जिनमें तीन नाबालिग हैं.

इसे भी पढ़ेंः बालाकोट एयर स्ट्राइक के पांच बहादुर पायलट वायुसेना मेडल से सम्मानित किये जायेंगे

  फैसले पर पहलू के बेटे इरशाद ने अफसोस जताया

न्यायालय द्वारा आरोपियों को बरी किये जाने  के फैसले पर पहलू के बेटे इरशाद ने अफसोस जताया  है, इरशाद ने कहा कि वह इस फैसले से खुश नहीं है. इरशादने इसे धोखा बताया और कहा कि उनका परिवार फिर से जांच की मांग करेगा. खबरों के अनुसार कोर्ट में फैसला सुनाते समय कहा गया कि पुलिस आरोपियों को दोषी साबित नहीं कर पायी.

Related Posts

मोदी सरकार खुफिया अफसरों के माध्यम से  महबूबा मुफ्ती  और उमर अब्दुल्ला का रुख भांप रही है!

केंद्र सरकार  घाटी में शांति और सद्भाव स्थापित करने के मकसद से राज्य दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को साधने की कोशिश में जुटी है.

SMILE

एडिशनल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर योगेंद्र खटाना ने कहा कि कोर्ट ने लिन्चिंग के सभी छह आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया.  यह भी दावा किया गया कि वीडियो में आरोपियों का चेहरा स्पष्ट रूप से नजर नहीं आया.  दूसरी ओर वीडियो बनाने वाला शख्स भी अपने बयान से मुकर गया.

जान लें कि  जब पहलू खान पर हमला हुआ था, उस समय वह राजस्थान में गाय खरीदने के बाद हरियाणा जा रहे थे.  यह मामला देशभर की मीडिया में सुर्खियां बना था.  काफी समय तक यह मामला सियासी गलियारों में भी चर्चित रहा.  एडीजी (सीआईडी-सीबी) पंकज कुमार सिंह ने इस संबंध में कहा कि पहलू खान केस की जांच में छह लोगों को क्लीन चिट दी गयी है. नौ अन्य आरोपियों को आपराधिक आरोपों का सामना करना पड़ेगा.

इसे भी पढ़ेंः आईएएस से नेता बने शाह फैसल दिल्ली हवाई अड्डे पर हिरासत में लिये गये, विदेश जाने से रोके गये, वापस कश्मीर भेजे गये

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: