Crime News

#AlQaeda: कोलकाता, आसनसोल सहित कई अन्य जगहों पर जेहाद के लिए युवाओं को उकसाता था अलकायदा का संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन

Ranchi: रांची एटीएस की टीम के द्वारा 21 सितंबर को जमशेदपुर रेलवे स्टेशन के पास से गिरफ्तार किये गये अलकायदा का संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन कई जगह सभाएं कर युवकों को जेहाद के लिए उकसाता था.

सूत्रों के अनुसार वर्ष 2016 से लेकर गिरफ्तारी होने तक पश्चिम बंगाल के कोलकाता, आसनसोल सहित कई अन्य जिलों में जिलों के मदरसों में उसकी सभाएं होती थीं. इन सभाओं में अलकायदा का संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन युवाओं को जेहाद के लिए उकसाने का काम करता था.

इसे भी पढ़ें – सुनिये सरकार, लाठी चार्ज पर क्या कह रहे हैं लोग, कैसे कोस रहे हैं, पुलिस वाले भी उठा रहे हैं सवाल

आसनसोल के मदरसे को बनाया था ठिकाना

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2016 में कलीमुद्दीन के खिलाफ जमशेदपुर में केस दर्ज होने के बाद वह फरार हो गया. फहार होने के बाद उसने बंगाल के आसनसोल स्थित एक मदरसे को अपना ठिकाना बनाया था.

यहां वह सभा आयोजित कर युवाओं को जेहाद के लिए उकसाता था. इतना ही नहीं कलीमुद्दीन मुर्शिदाबाद और मालदा में भी जाकर अपनी सभाएं करता था.

बंगाल में अलकायदा का नेटवर्क मजबूत करने में जुटा था कलीमुद्दीन

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कलीमुद्दीन ने एटीएस की हिरासत में बताया है कि उसकी ज्यादातर सभाएं रात को होती थीं और इनमें आठ से 10 युवा शामिल होते थे.

इसे भी पढ़ें – #Dhullu तेरे कारण : मजदूर ने सपरिवार की कलेक्ट्रिएट के सामने आत्मदाह की कोशिश, पुलिस ने रोका

वो बंगाल में अलकायदा के नेटवर्क को मजबूत करने में जुटा हुआ था, लेकिन इसी दौरान वह अपने परिवार और जिस मामले में वह फरार चल रहा था, उसमें जमानत अर्जी दाखिल करने जमशेदपुर आया था. उसी दौरान जमशेदपुर रेलवे स्टेशन के पास एटीएस की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

इसे भी पढ़ें – alexa.com रैंकिंग में देश में 18वें रैंक पर पहुंचा newswing.com

फरारी के दौरान भी जमशेदपुर के कई युवक उससे संपर्क में थे

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जमशेदपुर में अब भी अलकायदा के कई स्लीपर सेल मौजूद हैं. एटीएस द्वारा 21 सितंबर की रात जमशेदपुर रेलवे स्टेशन से पकड़े गये आतंकी मौलाना कलीम ने पूछताछ में एटीएस के सामने कई राज उगले हैं. पता चला है कि मौलाना कलीम की फरारी के दौरान भी जमशेदपुर के कई युवक उससे संपर्क में थे. एटीएस ने इन स्लीपर सेल की निगरानी शुरू कर दी है. यही नहीं, एटीएस को मौलाना कलीमुद्दीन के बेटे हुजैफा की भी तलाश है.

जमानत अर्जी दाखिल करने और परिवार से मिलने आया था जमशेदपुर

मिली जानकारी के अनुसार 21 सितंबर की रात जमशेदपुर रेलवे स्टेशन के पास से गिरफ्तार हुआ अलकायदा का संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन वर्ष 2016 में अपने ऊपर दर्ज हुए मामले में तीन साल से फरार चल रहा था. वह इस मामले में जमानत की अर्जी दाखिल करने और अपने परिवारवालों से मिलने के लिए आया था. इसी दौरान एटीएस ने उसे गिरफ्तार किया.

इसे भी पढ़ें – #AlQaeda का गढ़ तो नहीं बन रहा जमशेदपुर! अबतक गिरफ्तार हुए 12 संदिग्ध आतंकियों के जुड़ चुके हैं तार

Related Articles

Back to top button