GiridihJharkhand

गिरिडीह : ISI ऑफिस की कुक के साथ अधिकारी ने किया था रेप का प्रयास, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

Giridih : भारतीय सांख्यिकी संस्थान (ISI) के गिरिडीह ऑफिस में कार्यरत महिला रसोइया के साथ कोलकाता संस्थान के प्रशासनिक अधिकारी प्रोबीर भट्टाचार्या द्वारा साल 2018 में दुष्कर्म के प्रयास का आरोप सही पाया गया है.

नगर थाना पुलिस ने जांच में यह भी पाया कि उक्त घटना से पहले प्रोबीर ने पीड़िता के साथ छेड़खानी का भी प्रयास किया था और उस घटना को एक दूसरे कर्मी ने देख लिया था.

जांच में यह भी सामने आया है कि आरोपी अधिकारी ने रसोइया को धमकी दी थी कि उसने घटना का जिक्र कहीं किया तो नौकरी से हटा देगा.

इसे भी पढ़ें : प्रधानमंत्री ने मन की बात में ओरमांझी प्रखंड के आरा केरम के ग्रामीणों की प्रशंसा की

लोक-लिहाज में चुप रही पीड़िता

पीड़िता द्वारा केस दर्ज कराने के बाद नगर थाना पुलिस ने मामले को गंभीरता से लिया. थाना प्रभारी आदिकांत महतो के निर्देश पर आरोपों की जांच की गयी. केस के अनुसंधानकर्ता राधेश्याम पांडेय ने केस की जांच में पाया कि प्रोबीर भट्टाचार्य ने रसोइया के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया था लेकिन वह लोक-लिहाज के कारण चुप रही. ऑफिस में कार्यरत एक दूसरे कर्मचारी ने अनुसंधानकर्ता को दिये गये बयान में इतनी ही बात बतायी है.

अनुसंधानकर्ता पांडेय ने अपने अनुसंधान में पाया कि एक साल पहले 14 जनवरी 2018 को प्रोबीर भट्टाचार्य ने संस्थान के किचन में खाना बनाती हुई रसोइया के शरीर पर गंदी नीयत से हाथ फेरा था जिसका उसने विरोध किया था.  प्रशासनिक अधिकारी की इस हरकत को संस्थान के दूसरे कर्मी ने देख लिया था.

तीन माह बाद 20 मार्च 2018 को संस्थान के गेस्ट हाउस से जब सभी बैठक के लिए संस्थान के कार्यालय में चले गये, तो रसोइया को अकेले पाकर प्रोबीर भट्टाचार्य ने गेस्ट हाउस के भीतर ही दुष्कर्म करने का प्रयास किया था.

पीड़िता ने जब विरोध किया तो प्रोबीर ने धमकी दी कि किसी से घटना का जिक्र करने पर वह उसे नौकरी से निकाल देगा.

इसे भी पढ़ें : लातेहार : स्कूल देख क्लास लेने पहुंच गये डीसी, बच्चियों को पढ़ाया नैतिकता का पाठ

पीएमओ और महिला आयोग से की थी शिकायत

धमकी के कारण पीड़िता चुप रही. लेकिन उसने प्रधानमंत्री कार्यालय और राष्ट्रीय महिला आयोग के पास पत्र के माध्यम से शिकायत की. शिकायत मिलने के बाद आयोग व पीएमओ कार्यालय ने आरोपी अधिकारी पर कार्रवाई करते हुए उसे संस्थान से बाहर का रास्ता दिखा दिया.

आयोग ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गिरिडीह एसपी को आरोपी के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया.

कोलकाता आइएसआइ के आरोपी प्रशासनिक अधिकारी के साथ-साथ गिरिडीह आइएसआइ के प्रभारी डॉ हरिचचरण बेहरा समेत पांच कर्मियों के खिलाफ पीड़िता ने महिला आयोग और पीएमओ को पत्र लिखा था.

जिन पांच कर्मियों पर पीड़िता ने आरोप लगाये थे उसमें प्रभारी बेहरा के साथ प्रदीप भट्टाचार्य, अशोक कुमार, आसिफ हुसैन, श्मशुल हौदा शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : कमीशनखोरी के लिए सहयोगियों संग राजधानी के विनाश में लगे हैं सीपी सिंह :  संजय पांडे

अन्य आरोपियों को पुलिस की क्लनीचिट

पीड़िता के दिए आवेदन के आधार पर नगर थाना पुलिस ने थाना कांड संख्या 183/19 दर्ज करते हुए मामले की जांच थाना के एसआइ राधेश्याम पांडेय को सौंपी थी. इसमें अनुसंधानकर्ता ने पाया कि दुष्कर्म का प्रयास सिर्फ प्रोबीर भट्टाचार्य ने किया था.

जबकि इस मामले में नगर थाना पुलिस ने आइएसआइ गिरिडीह संस्थान के प्रभारी डॉ हरिचरण बेहरा समेत पांच आरोपी कर्मियों को क्लीनचिट दी है. नगर थाना पुलिस अब आरोपी प्रोबीर भट्टाचार्य को किसी भी दिन गिरफ्तार करने कोलकाता जा सकती है.

बताते चलें कि भारत सरकार के अधीनस्थ आइएसआइ के गिरिडीह कार्यालय में संविदा पर कार्यरत महिला रसोइया ने प्रोबीर पर संस्थान के गेस्ट हाउस में दुष्कर्म का प्रयास करने का आरोप लगाते हुए नगर थाना में केस दर्ज कराया था जिसमें प्रोबीर और गिरिडीह प्रभारी समेत छह कर्मियों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें : बाघमारा के जंगल में महिलाओं ने देखा बाघ! इलाके में दहशत, लोगों ने रात में निकलना किया बंद

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: