न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सबरीमला मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को नहीं मानती अखिल भारत हिंदू महासभा, लड़ेंगे लोकसभा चुनाव : राजश्री चौधरी

अखिल भारत हिंदू महासभा के प्रांतीय अधिवेशन में राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री चौधरी ने कहा- देश के सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक विकास के लिए हिंदू राष्ट्र जरूरी

89

Ranchi : अखिल भारत हिंदू महासभा की ओर से सोमवार को प्रांतीय अधिवेशन का आयोजन किया गया. महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री चौधरी विशेष रूप से कार्यक्रम में उपस्थित थीं. उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के बाद महासभा का मुख्य कार्य आदर्श देश बनाना है, जिसमें भारत को भ्रष्टाचारमुक्त बनाया जायेगा. इसके लिए आनेवाले लोकसभा चुनाव में महासभा के दावेदार चुनाव में उतरेंगे. इसकी तैयारी की जा रही है. उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में जनता जागरूक हो चुकी है. जनता समझ रही है कि चुनाव में क्या सही है, लेकिन सही उम्मीदवार नहीं मिलने के कारण भ्रष्ट लोग ही सत्ता में आ रहे हैं. ऐसे में महासभा की ओर से लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी उतारे जायेंगे.

सुप्रीम कोर्ट को भावनाओं में बहकर नहीं, आस्था को ध्यान में रख फैसला करना चाहिए

राजश्री चौधरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को भावनाओं में बहकर नहीं, बल्कि आस्था को ध्यान में रखकर निर्णय लेना चाहिए. सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश करने के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को महासभा नहीं मानती. उन्होंने कहा कि ऐसे निर्णयों के कारण ही विदेशी मूर्ति पूजन की निंदा करते हैं, बल्कि यह सिर्फ मूर्ति पूजा नहीं, हिंदू की आस्था से जुड़ी है. नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार मिश्रा ने कहा कि सबरीमला मंदिर पर देश का कोई भी हिंदू संगठन सहमति नहीं जता रहा, इसलिए महासभा आदेश से सहमत नहीं है.

अधिवेशन में कार्यकर्ताओं में दिखा मतभेद

अधिवेशन के दौरान राज्य कार्यकारिणी कमिटी समेत राज्य के दो कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल करने की बात की गयी. इस दौरान महासभा के कार्यकर्ताओं ने विरोध करते हुए कहा कि महासभा के कार्यकर्ताओं से बिना चर्चा किये ही प्रस्ताव पारित कर दिया गया है. पूर्व कोषाध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि राज्य कमिटी के गठन तक की बात तो ठीक थी, लेकिन राज्य के कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय कमिटी में शामिल करने के लिए कोई चर्चा कार्यकर्ताओं से नहीं करना उचित नहीं है. कार्यकर्ता मुश्किल के समय में महासभा को आर्थिक मदद करते हैं, इतना ही नहीं, कार्यक्रम आयोजित करने के लिए भी कार्यकर्ताओं ने दिन-रात एक किया है. ऐसे में बिना किसी सहमति के कुछ लोगों से विचार कर कार्यकर्ताओं का नाम घोषित करना अन्य सभा के हित में नहीं है. इस दौरान कई कार्यकर्ताओं ने महासभा से इस्तीफा देने की बात भी कही.

राम सिर्फ भगवान नहीं, आदर्श राज के प्रतीक भी हैं

राजश्री चौधरी ने अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं को एकजुट होकर राष्ट्र निर्माण में सहयोग करना चाहिए. हिंदू राष्ट्र निर्माण से ही देश का सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक विकास होगा. उन्होंने भारत को फिर से स्वर्ण भारत बनाने की बात कही. उन्होंने कहा कि लंबे समय से अयोध्या मंदिर निर्माण को लेकर विवाद चल रहा है. अब मंदिर का निर्माण होना चाहिए, क्योंकि अयोध्या मंदिर सिर्फ मंदिर नहीं, बल्कि भारत की पहचान है. चौधरी ने कहा कि राम सिर्फ हिंदुओं के भगवान नहीं, बल्कि वह आदर्श राज के भी प्रतीक हैं.

इतिहास के लिए विदेशियों पर निर्भर

उन्होंने कहा कि भारत के मूलवासी वास्तव में हिंदू हैं. वहीं, विदेशों से आये लोगों ने यहां की परंपरा और संस्कृति को नहीं अपनाते हुए इसे बदलने की कोशिश की, जो गलत है. समय ऐसा आ गया है कि बच्चे जो इतिहास पढ़ते हैं, वह भी विदेशियों के लिखित हैं. ऐसे में वास्तव में भारत क्या था, इसकी सटीक जानकारी लोगों को कैसे मिलेगी. राजश्री ने कहा कि भारत भले ही ब्रिटिश उपनिवेश न हो, लेकिन अब भी यहां की संस्कृति में विदेशी रीति-रिवाज रच-बस गये हैं.

इसे भी पढ़ें- लिट्टीपाड़ा में लटकी, सिल्ली में सरेंडर और गोमिया में गर्त में जा चुकी बीजेपी के लिए कोलेबिरा की राह…

इसे भी पढ़ें- विदिशा हत्याकांड की गुत्थी तो सुलझ नहीं सकी, अब इंसाफ मांगनेवाली छह महिलाओं को ही भेज दिया गया नोटिस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: