न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर गये सभी 1,430 भारतीय तीर्थयात्रियों को सुरक्षित निकाला गया

472

Kathmandu : तिब्बत स्थित कैलाश मानसरोवर की यात्रा से लौटते समय फंसे सभी 1,430 भारतीय तीर्थयात्रियों को हेलीकॉप्टर के जरिये सुरक्षित निकाल लिया गया है. भारतीय दूतावास ने यहां यह जानकारी दी. नेपाल के पहाड़ी क्षेत्र से 160 लोगों के अंतिम समूह को सुरक्षित निकाले जाने के साथ ही फंसे हुए सभी यात्री अब सुरक्षित निकाल लिये गये है. हिल्सा और सिमीकोट जिलों से बचाये गये लोगों को नेपालगंज और सुरखेत ले जाया गया है. ये दोनों नगर भारतीय सीमा के नजदीक हैं और दोनों जगह बेहतर स्वास्थ्य देखभाल और अवसंरचना सुविधाएं हैं.

mi banner add

तीर्थयात्री पिछले पांच -छह दिन से पश्चिमी नेपाल में फंसे हुए थे

भारतीय मिशन ने ट्वीट किया, सिमीकोट और हिल्सा से आज 160 तीर्थयात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाले जाने के साथ ही बचाव प्रक्रिया पूरी हो गयी है. दूतावास की टीम लगातार स्थिति की निगरानी के लिए वहां मौजूद है. भारतीय दूतावास ने कहा, आज तक, सिमीकोट / हिल्सा से 1,430 तीर्थयात्रियों को हेलीकॉप्टर से नेपालगज / सुरखेत ले जाया गया.  तीर्थयात्री पिछले पांच -छह दिन से पश्चिमी नेपाल में फंसे हुए थे. एक अधिकारी ने बताया कि भारतीय दूतावास ने सूचना मिलते ही फंसे लोगों को निकाले जाने का अभियान शुरू किया और आवश्यक दवाइयां और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराई.

Related Posts

कश्मीर में अशांति फैलाने के लिये यासीन मलिक ने ISI से लिए पैसे: NIA

टेरर फंडिंग से अर्जित की 15 करोड़ की संपत्ति

दूतावास के प्रवक्ता रोशन लेप्चा ने कहा, सभी फंसे लोगों को हिल्सा और सिमीकोट से हेलीकॉप्टर के जरिये निकाल लिया है और उन्हें वहां से सुरखेट और नेपालगंज ले जाया गया है. बचाव अभियान और पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से संपर्क स्थापित करने के लिए मौके पर दूतावास के दो कर्मचारियों को तैनात किया गया था. उन्होंने बताया कि दूतावास ने राहत कार्यों के लिए स्थानीय टूर आपरेटरों और सुरक्षाकर्मियों के साथ समन्वय किया. चीन के अधीन तिब्बत क्षेत्र में स्थित कैलाश मानसरोवर हिन्दुओं, बौद्धों और जैनों के लिए पवित्र तीर्थस्थल है और हर साल सैकड़ों भारतीय प्रतिकूल मौसम परिस्थितियों में इस यात्रा पर जाते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: