न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अलर्ट – आज के अखबारों में निकला है 2476 युवाओं को नौकरी देने का फर्जी विज्ञापन

3,142

Ranchi : झारखंड एजुकेशन डेवलपमेंट द्वारा संयुक्त स्नातक स्तरीय प्रतियोगिता परीक्षा के जरीए 2476 पदों का विज्ञापन निकाला है. गुरुवार के अखबारों में फिर से विज्ञापन निकालकर आवेदन करने की तिथि को बढ़ा दिया गया है. पिछले विज्ञापन के अनुसार 20 सितंबर को आवेदन देने की अंतिम तिथि तय थी. जिसे अब पांच अक्टूबर कर दिया गया है. इसे लोग ठगी का जरीया बता रहे हैं. इस विज्ञापन की कटिंग को जिला प्रशासन द्वारा संचालित व्हाट्सएप ग्रुप में भी डाल कर इसे ठगी बताया जा रहा है. और कहा जा रहा है कि फर्जी परीक्षा के नाम पर संस्था द्वारा बेरोजगारों को ठगा जा रहा है. विज्ञापन के माध्यम से युवाओं से आवेदन शुल्क के नाम पर 230 रुपये मांगे जा रहे हैं. मालूम हो कि स्नातक स्तरीय प्रतियोगिता परीक्षा के लिए आवेदन आमंत्रित किये गये हैं जिसमें इंटरमीडिएट पास के लिए भी पद हैं. वहीं साथ ही स्नातक स्तरीय प्रतियोगिता परीक्षा लेने का अधिकार झारखंड में सिर्फ जेएसएससी और एसएससी के पास ही है. अगर परीक्षा जेएसएससी और एसएससी लेती है तो विज्ञापन भी सिर्फ यही दोनों संस्था निकालती है. पर इस मामले में विज्ञापन खुद झारखंड एजुकेशन डेवलपमेंट के द्वारा निकाला गया है. मामले की सही जानकारी के लिए न्यूज विंग ने वेबसाइट पर दिये नंबर पर संपर्क करने की भी कोशिश की लेकिन फोन नहीं उठाया गया. वहीं जेएसएससी का कहना है कि उनके द्वारा ऐसा कोई विज्ञापन नहीं निकला गया है.

इसे भी पढ़ें- युवाओं को नौकरी देने का विज्ञापन निकालनेवाला संस्थान निकला फर्जी

क्या है नियम

2476 युवाओं को नौकरी देने का फर्जी विज्ञापन
2476 युवाओं को नौकरी देने का फर्जी विज्ञापन

झारखंड राज्य के लिए होने वाली शिक्षक सहित किसी भी थर्ड ग्रेड की नियुक्ति कराने का अधिकार राज्य सरकार ने सिर्फ जेएसएससी को दिया है. जेएसएससी का कहना है कि उनके द्वारा ऐसा कोई भी विज्ञापन नहीं निकाला गया है. साथ ही जब भी स्नातक स्तरीय परीक्षा आयोजित की जाएगी उसमें कहीं से भी इंटरमीडिएट के लिए पोस्ट का निर्धारण नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें-रांची जलापूर्ति योजना : 397 करोड़ खर्च हुए, फिर भी योजना के लाभ से महरूम हैं रांचीवासी

क्या है मामला

गुरुवार के समाचार पत्रों में झारखंड एजुकेशन डेवलपमेंट, रातू रोड रांची के पते के साथ एक विज्ञापन छपा है. विज्ञापन संख्या 01 2018 के माध्यम से कुल 2476 पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किये गए हैं. जिसके अप्लाई करने की तिथि को 20 सितंबर से बढ़ाकर पांच अक्टूबर कर दिया गया है. परीक्षा शुल्क 220 रुपये मांगे गए हैं. विज्ञापन में बताया जा रहा है कि परीक्षा संयुक्त स्नातक स्तरीय होगी, जिसे झारखंड में सिर्फ जेएसएससी और एसएससी के माध्यम से ही कराया जा सकता है. आवेदकों को www.jed.org.in के वेबसाइट पर आवेदन करने के लिए बोला गया है. ये विज्ञापन पूरी तरह से फर्जी है. विज्ञापन युवाओं के पैसे की ठगी करने के लिए है.

silk_park

इसे भी पढ़ें- मैनहर्ट मामला: विजिलेंस ने मांगी 5 बार अनुमति, हाईकोर्ट का भी था निर्देश, FIR पर चुप रहीं राजबाला

किन किन के पदों लिए निकाल है विज्ञापन

  • ग्रामीण शिक्षक, शिक्षिका 2224
  • ब्लाॅक कॉर्डिनेटर 224
  • जिला कॉर्डिनेटर 24
  • राज्य काॅर्डिनेटर 02
  • लेखापाल 02

इसे भी पढ़ेंःतीन महीने बाद अयोग्‍य हो जायेंगे 70,175 सरकारी शिक्षक

झारखंड एजुकेशन डेवलपमेंट इसे बताता है अपना उद्देश्य

  • झारखंड एजुकेशन डेवलपमेंट का व्यापक रूप से प्रसार करना, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों, सामाजिक एंव आर्थिक दृष्टि से पिछडे़ वर्गों के बच्चों तक, जिससे कि राज्य के सभी पिछडे़ वर्ग के बच्चों तक सही एंव गुणवता पूर्ण शिक्षा पहुंच सके, और उन्हें सही एंव गुणवता पूर्ण शिक्षा अर्जित करने में आने वाली कठिनाईयों को कम किया जा सकें.
  • अभिभावक अपने बच्चों को सही शिक्षा मुहैया कराने के कारण, बच्चों के विद्यालय शिक्षा के उपरांत अपने आप को आर्थिक तंगी में फंसे रहने की भावना महसूस करते हैं वैसे अभिभावको के साथ तत्पर तैयार रहना.
  • अभिभावक के सभी व्यय शंकाओ, जो की विद्यार्थियों के प्रति किया गया हो को दूर कर, उनके द्वारा किये गए सभी व्ययों को बचत में तबदील करना.
  • अधिकतम मितव्ययिता और इस पूर्ण अवघारणा के साथ की ‘झारखण्ड एजुकेशन डेवलपमेंट’ के सभी कार्य छात्र – छात्राओं के अधिकार है, इसका संचालन करना.
  • बदलते हुए सामाजिक एंव आर्थिक परिवेश में उत्पन्न होने वाली समाज की विभिन्न शिक्षा संबंधी जानकारियों की पूर्ति करना.
  • इसमें कार्यरत सभी लोगों को उनकी सर्वोत्तम कार्यक्षमता के अनुसार सविनय कुशल सेवा प्रदान कर पंजीकृत छात्र – छात्राओं के हितों के संर्वधन से संलग्न करनात.
  • विद्यालय में होने वाले आर्थिक कठिनाइयों को सफलता पूर्वक विद्यालय के प्रधानाध्यापक के साथ मिलकर सरलता से निर्वाह करना.
  • समस्त अभिकर्ताओं, कर्मचारियों और विद्यालय के सभी शिक्षकों में इसके उद्देश्य की प्राप्ति में समर्पित भाव से अपने कर्तव्यों का अनुपालन करके सहभागिता, गौरव और कार्य संतुष्टि की भावना प्रोन्नत करना.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: